Home HEALTH अटल आयुष्मान योजना में फर्जीवाड़ा : उत्तराखंड के दो और अस्पताल को...

अटल आयुष्मान योजना में फर्जीवाड़ा : उत्तराखंड के दो और अस्पताल को सूची से हटाया गया

325
0
  • संविदा पर काम कर रहे डॉक्टरो का खेल
  • अब तक पांच अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है, उनमें तीन काशीपुर के और दो हरिद्वार के हैं।

देहरादून : उत्तराखंड में अटल आयुष्मान योजना के तहत मरीजों को रेफर करने के नाम पर इलाज दर्शाकर लाखों रुपये हड़पने के आरोप में उत्तराखंड के दो और प्राइवेट अस्पतालों पर कार्रवाई की गई है। इनमें एक निजी अस्पताल हरिद्वार जिले के सुल्तानपुर , तथा दूसरा ऊधमसिंह नगर जिले के काशीपुर का है। गड़बड़ी रेगुलर ऑडिट के दौरान पकड़ी गई। योजना के मुख्य अधिकारी युगल किशोर पंत के आदेश पर इन अस्पतालों को सूची से निलंबित करते हुए 15 दिन के अंदर जाँच रिपोर्ट मांगी गई हैं ।

कैसे हुआ फर्जीवाड़ा

काशीपुर की एक महिला चिकित्सक पर आरोप है कि उसने मरीजों को अपने पति के अस्पताल में रेफर किया । काशीपुर का यह अस्पताल 5 महीने पहले ही सरकारी लिस्ट में सूचीबद्ध हुआ था। अस्पताल में कुल नौ चिकित्सक हैं, डॉ. नवप्रीत कौर (स्त्री रोग विशेषज्ञ) के रूप में शामिल हैं। डॉ. कौर एलडी भट्ट राजकीय चिकित्सालय काशीपुर में भी संविदा पर भी काम करती हैं। पिछले सप्ताह जब सहोता अस्पताल ने अप्रैल के कुल 93 मामलों का क्लेम किये,जिसमें 21 मामले नवजात शिशुओं से संबंधित,35 डायलिएसिस , नौ सिजेरियन प्रसव, और सात मामले मोतियाबिंद के थे। सिजेरियन प्रसव के नौ मामले एलडी भट्ट राजकीय चिकित्सालय से सहोता अस्पताल के लिए रेफर किए गए थे ,उन्हें रेफेर करने वाली कोई नहीं बल्कि डॉ. कौर ही थी । जांच में पता चला कि यह सहोता अस्पताल डॉ. कौर के पति डॉ. रवि सहोता का है। इस बीच यह भी पता चला हैं कि मरीजों से मेडिकल मैनेजमेंट के नाम पर प्रति मरीज नौ से 10 हजार रुपये तक लिए गये।
पिछले सप्ताह भी इसी तरह का मामला काशीपुर के आस्था हॉस्पिटल से जुड़ा था है। राज्य स्वास्थ्य अभिकरण के अधीन क्रियान्वयन समिति एजेंसी (आइएसए) ने योजना के सीईओ से मामले की शिकायत की थी। फर्जीवाड़े पर जब जाँच की गई तो एक के बाद एक खुलासे हुए। अस्पताल के मालिक डॉ. राजीव कुमार गुप्ता ने खुद को इस अस्पताल का एकमात्र चिकित्सक बताया था, जबकि वह एलडी भट्ट राजकीय एलोपैथिक चिकित्सालय, काशीपुर में संविदा के पद पर पूर्णकालिक चिकित्सक हैं।

जीवन ज्योति हॉस्पिटल टिक्कमपुर सुल्तानपुर, हरिद्वार
सुल्तानपुर हरिद्वार के इस अस्पताल ने कुल 94 क्लेम प्रस्तुत किए गए। अस्पताल ने अपने यहां कार्यरत डॉ. जार्ज सैमुअल का नाम डाक्यूमेंट्स में कही नहीं बताया है । लेकिन मरीजों की डिस्चार्ज समरी और क्लीनिकल नोट्स में उन्हीं का नाम लिखा है। डॉ. सैमुअल भी 2015 से हरिद्वार के कई राजकीय चिकित्सालयों में संविदा पर तैनात हैं। वर्तमान में पीएचसी रायसी में सेवाएं दे रहे हैं। डॉ. सैमुअल ने भी खूब धोखाधड़ी की और किसी मरीज को लंढोरा तो किसी को लक्सर से रेफर करना दर्शाया। जबकि, इन अस्पतालों वह पहले काम कर रहे थे।

 

LEAVE A REPLY