Home How to tackle monkey ask these ITBP jawan आईटीबीपी के जवानो को बंदर भगाने के लिए बनाना पड़ा भालू :...

आईटीबीपी के जवानो को बंदर भगाने के लिए बनाना पड़ा भालू : देखें VIDEO

147
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

पिथौरागढ़: . वीडियो आईटीबीपी के उत्‍तराखंड स्थित मिर्थी कैंप का है। उत्तराखंड के पहाड़ी इलाके पिछले कई सालो से बंदरो के आतंक को झेल रहा हैं । इसी बीच देश की रक्षा के लिए तैनात इंडो-तिब्‍बत बॉर्डर पुलिस फोर्स के जवानों का वीडियो सामने आया है। वीडियो में आईटीबीपी के जवान बंदर भगाते दिख रहे हैं। लेकिन वह भी अजब गजब तरीके से उनका बंदर भगाने का तरीका भी कुछ अलग है। आईटीबीपी के दो जवान भालू की ड्रेस पहनकर बंदरों को भगा रहे हैं।

दरअसल,आईटीबीपी के ये जवान बंदरो से इतने परेशांन हो गए थे कि उन्होंने
बंदरों को कैंप से भगाने के लिए अनूठा रास्‍ता निकाला। दो जवानों ने भालू की ड्रेस पहनी, इसके बाद बंदरों के पास जाने लगे।

बंदरों को भी ऐसा लगा कि भालू उनकी ओर आ रहा है। इसके बाद बंदर कैंप से भागते दिखाई दिए.। बंदर इस दौरान पास के जंगलों में भागते दिखाई दिए. आईटीबीपी के जवानों का यह का अंदाज लोगों को खूब पसंद आ रहा है।ऐसी भी जानकारी सामने आई है कि इस इलाके में बंदर बड़ी संख्‍या में हैं। ये बंदर आईटीबीपी के कैंप में घुसकर उत्‍पात मचाते हैं. ऐसे में यहां के जवान काफी परेशान हो जाते थे. पहले तो वे डंडों से बंदरों भगाते थे, लेकिन बाद में बंदर फिर कैंप में लौट आते थे। ऐसे में जवानों ने बंदरों को भगाने के लिए भालू की ड्रेस का सहारा लिया. उनकी ये तरकीब कारगर भी साबित हो रही है.

जानकारी के मुताबिक आईटीबीपी के मिर्थी कैम्प में बंदर बड़ी संख्‍या में मौजूद हैं, ये बंदर आईटीबीपी के कैंप में घुसकर उत्‍पात मचाते हैं। ऐसे में यहां के जवान काफी परेशान हो जाते थे। पहले तो वे डंडों से बंदरों भगाते थे, लेकिन बाद में बंदर फिर कैंप में लौट आते थे। ऐसे में जवानों ने बंदरों को भगाने के लिए भालू की ड्रेस का सहारा लिया और अब उनकी ये तरकीब कारगर भी साबित हो रही है।

इससे पहले उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में भी बंदरों के आतंक से परेशान ग्रामीणों ने नया ह‍थकंडा अपनाया । गांव के दो युवक भालू बनकर घूमे । जलालाबाद तहसील के सिकंदपुर अफगानान गांव में ग्रामीणों ने भालुओं की ड्रेस मंगवाई, जिसे पहनकर दो लोग बंदरों को भगाने का काम कर रहे हैं। ग्रामीणों के गांव में भालू बनकर घूमने से उन्हें बंदरों के आतंक से काफी निजात भी मिली है।

LEAVE A REPLY