Home Uncategorized आपातकाल के बाद पहली बार वाहन से रवाना हुई बाबा केदारनाथ की...

आपातकाल के बाद पहली बार वाहन से रवाना हुई बाबा केदारनाथ की डोली

234
0

दिलवर सिंह बिष्ट
रुद्रप्रयाग/ऊखीमठ-वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के कारण जारी लॉकडाउन के बीच बाबा केदारनाथ की डोली केदार धाम के लिये रवाना हो गयी। जिला प्रशासन के दिशा निर्देशों के अनुशार सामाजिक दूरी के पालन को ध्यान में रखते हुए सादगीपूर्ण ढंग से सिमित लोगों की उपस्थिति में डोली को गाड़ी से केदारनाथ के लिये बिदा किया गया।

आज सुबह गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में विधि-विधान से पूजा-अर्चना की गई , जिसके बाद , बाबा केदार का श्रृंगार किया गया , उन्हें भोग लगाया गया, आरती की गई, आरती के बाद पंचमुखी मूर्ति को गर्भगृह से मंदिर परिसर में लाया गया। यहाँ पर भी पूजा अर्चना के बाद विग्रह डोली ने ओंकारेश्वर मन्दिर की तीन परिक्रमाएं की ,इसके बाद भोले की डोली को वाहन में रखा गया और डोली धाम के लिए रवाना हो गई ।


प्रशासन के निर्देशो के मुताबिक डोली के साथ पुजारी और वेदपाठी ही शामिल रहे, किसी भी तरह के स्थानीय लोगों और हकहकूधारियों को बाबा की डोली के साथ चलने की अनुमति नही दी गयी पूरी सुरक्षा ब्यवस्था के बीच डोली जब ऊखीमठ से अपने धाम को रवाना हुई तो लोग अपने घरों की छतों, से ही दर्शन करते दिखे।

बाबा केदारनाथ की चल विग्रह डोली आज प्रथम रात्रि प्रवास के लिए गौरामाई मंदिर गौरीकुण्ड पहुंचेगी व द्वितीय रात्रि प्रवास 27 अप्रैल को भीमबली मे करेगी, 28 अप्रैल को उत्सव डोली केदारनाथ धाम पहुंचेगी जहां अगले दिन 29 अप्रैल को प्रात 6 बजकर 10 मिनट पर मेष लग्न मे वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जायेंगे।

1977 के आपातकाल के बाद पहली बार डोली को सड़क मार्ग से गौरीकुंड तक गाड़ी से ले जाया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्य पुजारी सहित सिमित संख्या में धर्माचार्य व प्रशासन के लोग उपस्थित रहे।डोली के साथ सिर्फ 16 लोग ही धाम रवाना हुए। और ये ही लोग 29 अप्रैल को केदारनाथ के कपाट खुलते समय वहां उपस्थित रहेंगे ।

LEAVE A REPLY