Home PANDIT OPPOSE CHARDHAM DEVSTHANAM BILL उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक के विरोध में प्रदर्शन

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक के विरोध में प्रदर्शन

157
0

शम्भू प्रसाद
रुद्रप्रयाग: उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक के पास होने पर बुधबार को गुप्तकाशी के पीडब्ल्यूडी गेस्टहाउस गुप्तकाशी के प्रांगण में केदारनाथ तीर्थ पुरोहित समाज की एक बैठक आहूत की गई। महेश शुक्ला (पूर्व उपाध्यक्ष केदारसभा)की अघ्यक्षता में उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक 2019 के विरोध में बैठक आयोजित की गयी। बैठक में प्रदेश सरकार से मांग की गई हैं कि उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक को वापस लिया जाय।

सभी वक्ताओं द्वारा ने कहा गया कि सरकार ने हम लोगों को विश्वास में न लेकर दरकिनार करते हुए उक्त विधेयक को पारित कर दिया गया है। हम इसका पुरज़ोर विरोध करते है।इसके बाद पीडब्ल्यूडी गेस्टहाउस गुप्तकाशी से स्थानीय बाज़ार होते हुए वसुकेदार तिराहे तक व वसुकेदार तिराहे से वापस बस स्टैंड गुप्तकाशी तक जुलूस व नारेबाज़ी की गई, जिसमें मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत व पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज का प्रतीकात्मक पुतला दहन किया गया।

जूलुस में सरकार विरोधी नारेबाज़ी करते हुए उक्त विधेयक को वापस लिये जाने की पुरज़ोर मॉग की गई, अन्यथा आगामी चुनावों में सरकार को इसके गम्भीर परिणाम के भुगतने की चेतावनी दी गई। सदस्यों ने रणनीति के तहत 20 दिसंबर को श्रीनगर गढ़वाल में केदारनाथ, बद्रीनाथ के हकहकूक धारियों द्वारा उपरोक्त समिति के बैनर तले एक जूलुस/प्रदर्शन का कार्यक्रम किया जाना प्रस्तावित है।

उक्त में मुख्य रूप से सर्वश्री कुबेर नाथ पोस्थी(महामंत्री केदारसभा),राजकुमार तिवारी(उपा०),केशव तिवारी(पू०जि०पं०सदस्य), गणेश तिवारी (जि०पं०स०गुप्तकाशी), माधव कर्नाटकी, विनोद शुक्ला (पूर्व जेष्ठ प्रमुख),भगवती प्रशाद तिवारी(पूर्व अध्यक्ष केदारसभा) आदि प्रमुख थे।

LEAVE A REPLY