Home HEAVY SNOWFALL IN UTTARAKHAND उत्तराखंड में भारी बर्फवारी. जनजीवन अस्त-व्यस्त, सभी स्कूल शनिवार तक बंद

उत्तराखंड में भारी बर्फवारी. जनजीवन अस्त-व्यस्त, सभी स्कूल शनिवार तक बंद

156
0

राकेश डंडरियाल /दिलबर सिंह बिष्ट /शम्भू प्रसाद

कुलांटेश्वर/अल्मोड़ा /पौड़ी/नैनीताल /रुद्रप्रयाग : शुक्रवार सुबह से ही देव भूमि उत्तराखंड की खूबसूरत वादियां जबरदस्त बर्फ के आगोश में समा गईं। गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक चारों तरफ सफ़ेद चादर बिछ गई हैं । अल्मोड़ा , पौड़ी , उत्तरकाशी , रुद्रप्रयाग . चमोली , पिथौरागढ़ , नैनीताल, धनोल्टी, औली और चकराता में भारी बर्फबारी होने की खबरे आ रही हैं । जिसके बाद पूरे कुमाऊं – गढ़वाल में ऐतिहात के तौर पर शनिवार को नैनीताल, चंपावत, पिथौरागढ़, पौड़ी, ऊधमसिंह नगर, देहरादून, रुद्रप्रयाग और चमोली में प्रशासन ने स्कूल बंद रखने के निर्देश दिए हैं।

पौड़ी
जिले के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में शुक्रवार को सीजन की पहली बर्फबारी हुई। बर्फबारी और बारिश से शुक्रवार को पूरे दिनभर आमजनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। शुक्रवार को जिले के थलीसैंण, चौंरीखाल, चाकीसैंण, खिर्सू, धुमाकोट, दीवागढ़ी, दीबा , जडाऊखांद, गुजडूगढ़ी, आदि क्षेत्रों में बर्फबारी हुई। सीजन की पहली बर्फबारी से किसानों व पर्यटकों के चेहरे खिले हुए है। पौड़ी के मांडाखाल, बुआखाल आदि स्थानों पर भी सुबह को हल्की बर्फबारी हुई। शुक्रवार को दिनभर पौड़ी में भी रुक-रुक कर बारिश होती रही। इस बीच खबर लिखते लिखते एसडीआरफ से सूचना मिली हैं कि केलाश टॉप बेदीखाल क्षेत्र में कुछ ट्रेकरों के फंसे होने की सूचना हैं तत्काल प्रशासन ने सतपुली से एसडीआरफ की टीम रवाना हो गई हैं ।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

शुक्रवार को जिले में बर्फबारी से 6 मोटरमार्गों पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित होती रही। इन मोटरमार्गों पर बर्फबारी होने से लोगों को आवाजाही करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इन मोटरमार्गों पर जेसीबी की मदद से यातायात सुचारू करने के प्रयास होते रहे। बर्फबारी से राज्यमार्ग मरचूला-सराईखेत-बैजरो-सतपुली, थलीसैंण -बूंगीधार-मरचूला, अन्य जिला मार्ग रिखणीखाल-बीरोंखाल-थलीसैंण, थलीसैंण-चौंरीखाल-चिपलघाट, दमदेवल-चौंरीखाल, एनएच 121 पर नैनीधार-सलोनधार मार्ग पर बर्फबारी के चलते आवाजाही प्रभावित रही

अल्मोड़ा
भारी बर्फबारी से सड़क बंद होने से कई वाहन बर्फ में फंसे हैं। अल्मोड़ा जा रहे इजराइल के कुछ पर्यटकों को जंगलचट्टी में बर्फबारी से सड़क बंद होने के कारण आदिबदरी वापस आना पड़ा। उधर रामनगर -सराईखेत मार्ग डोटियाल मार्ग पर कई इलाकों में वाहन फस गए थे , सुवरखाल, चित्तौड़खाल , इलाकों में कई गाड़ियां फस गई , एसडीएम स्याल्दे के अनुसार रोड को साफ़ करने के लिए तीन जेसीबी भेजी गई , जिसके बाद रास्ता खुला । खबर लिखे जाने तक यानि रात 11 बजे भी कालिंका , मल्लालखोरा , बुरासपानी, कफलगाव, बजवाड़, लखरकोट, घटबगड़, बजरखोड़ा , सराईखेत , घनियाल इलाकों में बर्फवारी जारी हैं। इन इलाकों में दो फ़ीट तक बर्फ पडी हैं ।

नैनीताल
नैनीताल में इस मौसम की पहली बर्फबारी हुई। जिससे पूरा नैनीताल बर्फ की सफेद चादर मे लिपट गया है। वही मुक्तेश्वर में शुक्रवार सुबह तक जोरदार बर्फबारी जारी रही है। मुक्तेश्वर में लगभग 5 व नैनीताल 2 इंच बर्फ पड़ी है। जिससे जन जीवन पर भी असर पड़ा। पर नैनीताल आये पर्यटकों ने बर्फबारी के जमकर मजा लिया।

मुनस्यारी
मुनस्यारी सहित उंची पहाड़ियों पर जमकर बर्फबारी हो रही है। जिले की ऊंचाई वाली चोटियां बर्फ से ढक गईं। इससे तापमान में जबर्दस्त गिरावट आने के कारण जिला मुख्यालय व उसके आसपास का क्षेत्र शीतलहर की चपेट में आ गया है।

रुद्रप्रयाग
शुक्रवार को औली और चकराता में बर्फबारी से और भी ठंड बढ़ गई। वहीं सुबह हुई बर्फबारी के बाद से ही औली, गंगोत्री-यमुनोत्री मार्ग बंद हो गए हैं।जोशीमठ बाजार में इस साल की पहली बर्फबारी हुई, जबकि 30 साल बाद दिसंबर में जोशीमठ नगर में बर्फ देखने को मिली।

चमोली
चमोली जिले के लगभग 135 गांव बर्फ से ढक गए हैं। बर्फबारी से निजमूला घाटी के पाणा, ईराणी, झींझी, पगना, गैरसैंण के दिवालीखाल, भराड़ीसैंण, पोरवाड़ी गांव के साथ ही 25 अन्य गांवों में शुक्रवार को विद्युत सप्लाई ठप हो गई।

LEAVE A REPLY