Home HISTORIC JHANDA MELA OF DEHRADUN ऐतिहासिक झंडा मेला: झंडा आरोहण के दौरान टूटा ध्वज दंड, सात लोग...

ऐतिहासिक झंडा मेला: झंडा आरोहण के दौरान टूटा ध्वज दंड, सात लोग घायल

226
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

देहरादून। देहरादून के ऐतिहासिक झंडा मेला के आरोहण में शुक्रवार को आस्था का जनसैलाब देखने को मिला । 344 साल पुराने एतिहासिक झंडा मेला में झंडारोहण के दौरान झंडा साहिब के ध्वज दंड का आधा हिस्सा टूटकर श्रद्धालुओं पर आ गिरा। इससे मची अफरा-तफरी में सात लोग जख्मी हो गए। झंडा मेला के इतिहास में पहली बार इस प्रकार की घटना हुई है।

आस्था के प्रतीक झंडा मेले को लेकर श्री दरबार साहिब में पिछले एक पखवाड़े से तैयारियां चरम पर थीं। देश-दुनिया से चार दिन पूर्व संगतों के पहुंचने का सिलसिला भी आरंभ हो गया था। तय कार्यक्रम के तहत झंडेजी के आरोहण के लिए शुक्रवार सुबह करीब आठ बजे तेज वर्षा व ओलावृष्टि के बीच पूजा-अर्चना का दौर शुरू हुआ।
लगातार हो रहे बारिश के बाबजूद श्रद्धालुओं के उत्साह में कोई कमी नहीं आई

तीन बजे ध्वज दंड आरोहण की प्रक्रिया शुरू हुई। लगभग एक लाख श्रद्धालुओं की उपस्थिति एवं महंत देवेंद्र दास महाराज, संगतों के बीच झंडे का आरोहण शुरू हुआ , तभी अचानक ध्वज दंड का आधा हिस्सा टूटकर श्रद्धालुओं पर आ गिरा। हादसे में 13 श्रद्धालु घायल हो गए। इनमें से सात को श्रीमहंत इंदिरेश अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जबकि अन्य को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। शाम को दुबारा प्रयास के बाद झंडे का आरोहण संपन्न हुआ।

 

घायल
गुरचरण सिंह पुत्र जगदीश सिंह (44) निवासी धमाणा, जिला रोपड़ (पंजाब)
अवतार सिंह पुत्र बलदेव सिंह (50)निवासी बनाड़, मोहाली (पंजाब)
लाडी पुत्र प्रकाश सिंह (22) निवासी रोपड़ (पंजाब)
जसकरण पुत्र पुरुषोत्तम (24) निवासी नवांशहर (पंजाब)
सुरजीत सिंह पुत्र लालचंद (50) वर्ष निवासी ग्राम रतिया, थाना दमोह, जनपद सोलन (हिमाचल प्रदेश)
सचिन पुत्र रघुवीर सिंह (23) निवासी काशीपुर, खेड़ागंज (उत्तराखंड)
जगमीत सिंह पुत्र हरप्रीत सिंह (14)निवासी 290 गांधीग्राम, देहरादून, उत्तराखंड

गुरू राम राय से जुड़ा है झंडा मेला

गुरू राम राय ने 1676 में दून में डेरा डाला था। उनका जन्म 1646 में पंजाब के होशियारपुर जिले के कीरतपुरमें होली के पांचवें दिन हुआ था। इसलिए दरबार साहिब में हर साल होली के पांचवें दिन उनके जन्मदिवस पर झंडा मेला लगाया जाता है।

LEAVE A REPLY