Home Soldier Martyred in Kupwara cremated in Uttarakhand कुपवाड़ा के जांबाज शहीदों को नम आंखों से अंतिम विदाई , सीएम...

कुपवाड़ा के जांबाज शहीदों को नम आंखों से अंतिम विदाई , सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रुद्रप्रयाग और पौड़ी पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।

193
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

रुद्रप्रयाग /पौड़ी । जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा से लगे केरन सेक्टर में घुसपैठियों के मंसूबों को नाकाम करते हुए, देश पर मर मिटने वाले माँ भारती के दो वीर जवानों को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रुद्रप्रयाग और पौड़ी जाकर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री पहले गुप्तकाशी पहुंचे, वहां उन्‍होंने शहीद हवालदार देवेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इससे पहले शहीद देवेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर को सेना के हेलीकाप्टर से आज सुबह गुप्तकाशी लाया गया, जहां मुख्यमंत्री ने शहीद जवान को अंतिम सलामी दी। ।

उनके साथ गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत व केदारनाथ विधायक श्री मनोज रावत ने भी  शहीद देवेंद्र को श्रद्धांजलि दी, जिसके बाद शहीद का पार्थिव शरीर उनके गांव के लिए सेना के वाहन से ले जाया गया। जहाँ सैनिक सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि कर दी गई।

इसके बाद मुख्यमंत्री पौड़ी पहुंचे। यहां उन्‍होंने शहीद अमित कुमार की पार्थिव देह पर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड वीर जवानों की भूमि है, सरकार शहीद के परिवार के साथ खड़ी है।रविवार को कुपवाड़ा में शहीद हुए जवान अमित अण्थवाल का पार्थिव शरीर आज पौड़ी के रांसी स्टेडियम पहुंचा। जहां मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत, राज्य मंत्री राजेंद्र अण्थवाल, डीएम धीरज सिंह सहित अन्य लोगों ने शहीद को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान पुलिस व सेना के जवानों ने शहीद को सलामी दी।

इसके बाद शहीद जवान की पार्थिव देह को अंतिम संस्कार के लिए पैतृक घाट ज्वालपा देवी ले जाया गया जहाँ सैनिक सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कर किया गया । घाट पर अमित के पिता नागेन्द्र प्रसाद ने शहीद अमित को कांपते हाथों से मुखाग्नि दी और फूट फूट कर रोने लगे। अन्त्योष्टि के दौरान नगर पालिका अध्यक्ष यशपाल बेनाम, राज्यमंत्री राजेन्द्र अंथवाल, पौडी उपजिलाधिकारी मनीष कुमार, तहसीलदार सामाजिक कार्यकर्ता हेमन्त बिष्ट, शशि भूषण सहित पुलिस प्रशासन व स्थानीय लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY