Home Uncategorized कोरोना की बीच माँ कलिंका आजीविका संघ गुदलेख बेच रहा है शुद्ध...

कोरोना की बीच माँ कलिंका आजीविका संघ गुदलेख बेच रहा है शुद्ध हिलांस ब्राण्ड आटा

184
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

स्याल्दे/अल्मोड़ा: जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना, अल्मोड़ा द्वारा जिला प्रशासन के साथ मिलकर विभिन्न तरह के उपाय किये जा रहे हैं जिससे कि कोरोना वायरस महामारी से बचा जा सके, साथ ही जन मानस को अतिआवश्यक सुविधाओं को उपलब्ध भी करवाया जा सके। इसी कड़ी में जनपद के दूरस्थ विकास खण्ड स्याल्दे के दूरस्थ ग्राम गुदलेख में कलिंका आजीविका स्वायत्त सहकारिता, गुदलेख द्वारा सम्पादित की जा रही है। सहकारिता के स्टाफ एवं चयनित सदस्य लाॅक डाउन अवधि के दौरान अपने विकास खण्ड एवं आसपास के क्षेत्रों में अपनी सहकारिता द्वारा स्थापित आटा चक्की के माध्यम से आटा तैयार कर उपलब्ध करवा रहे हैं।

मां कलिंका आजीविका संघ द्वारा अपनी चक्की में गेहू पिसाई एवं उसकी बेहतरीन पैंकिंग की जा रही है। इस आटे को हिलांस ब्राण्ड के नाम पर बेचा जा रहा है। इसके उपरान्त अपने सदस्यांे, विकास खण्ड की सहकारिताओं को उनकी मांग के अनुसार आपूर्ति की जाती है। वर्तमान में सहकारिता द्वारा इस गुणवत्तायुक्त आटे को 2600.रुपये प्रति कुंतल की दर से बेच रहा है। इस सहकारिता(कलिंका आजीविका संघ) ने लाॅक डाउन के दौरान सामाजिक दूरी का पालन करते हुए लगभग 95 कुंतल आटा पीसा जिसके बाद इसे आसपास की सहकारिताओं एवं व्यक्तियों, आदि को आपूर्ति की गई है। बर्तमान में इस सहकारिता के पास 5 कुंतल आटा एवं 80 कुंतल गेहूं स्टाॅक में हैं जिसे मांग के अनुसार पिसाई की जा रही है।

परियोजना प्रबन्धक कैलाश चन्द्र भट्ट के दिशा-निर्देशन में आईएलएसपी गठित आजीविका संघों द्वारा मुख्य रूप से ग्राम स्तर पर सैनिटाइजेशन, मास्क उत्पादन, राहत सामग्री वितरण, ग्राम स्तर पर जागरूकता, सामाजिक दूरी हेतु समुदाय का जन जागरण, आवश्यक सामग्रियों की ग्राम स्तर पर आपूर्ति गेहूं कटाई हेतु फार्म मशीनरी बैंक को उपलब्ध करवायी जा रही है।

LEAVE A REPLY