Home Uncategorized कोरोना के सकारात्मक परिणाम :हरकी पैड़ी में गंगा के पानी की गुणवत्ता...

कोरोना के सकारात्मक परिणाम :हरकी पैड़ी में गंगा के पानी की गुणवत्ता ए श्रेणी तक पहुंची

177
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

हरिद्वार। देवभूमि उत्तराखंड में कोरोना के चलते लॉकडाउन के होने से माँ गंगा वास्तव में पावन हो गई हैं । उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) द्वारा देवप्रयाग से हरिद्वार तक कराई गई गंगा जल की गुणवत्ता के नमूनों की जांच रिपोर्ट के बाद यह पता चला है कि पहली हरिद्वार स्थित हरकी पैड़ी में गंगा के पानी की शुद्धता ए श्रेणी की आई है। रिपोर्ट में बताया गया हैं कि ऋषिकेश से हरिद्वार तक फीकल कॉलीफार्म की मात्रा में भी काफी कमी आई है। पीसीबी ने ये आकड़े 24 मार्च के बाद लिए थे ।

राजधानी देहरादून स्थित केंद्रीय प्रयोगशाला में बिभिन्न जगहों से लिए गए नमूनों की जांच के बाद पीसीबी ने मंगलवार को आंकड़े जारी किए। पीसीबी के मुख्य पर्यावरण अधिकारी और केंद्रीय प्रयोगशाला के प्रभारी एसएस पाल के अनुसार लॉकडाउन अवधि में गंगा के जल की गुणवत्ता में सुधार हुआ है। उन्होंने बताया कि पहली बार हरिद्वार में हरकी पैड़ी में गंगा जल की गुणवत्ता ए श्रेणी की आई है। पहले यह बी श्रेणी की थी। इसी प्रकार ऋषिकेश में पशुलोक के नजदीक भी गंगा के पानी की गुणवत्ता ए श्रेणी की आई है, जो पहले बी में थी।
इसके अलावा देवप्रयाग, ऋषिकेश गंगा बैराज, लक्ष्मणझूला में गंगाजल की ए श्रेणी की गुणवत्ता बरकरार है। अलबत्ता, हरिद्वार में बिंदुघाट और जगजीतपुर में गुणवत्ता बी श्रेणी की है, लेकिन वहां फीकल कॉलीफार्म (मल-मूत्र) में कमी दर्ज की गई। बिंदुघाट में फीकल कॉलीफार्म में पिछले माह के मुकाबले इस बार 25 और जगजीतपुर में 27 फीसद की कमी आई है।

LEAVE A REPLY