Home POLITICS गेस्टहाउस कांड के 24 साल बाद पहली बार एक मंच पर होंगे...

गेस्टहाउस कांड के 24 साल बाद पहली बार एक मंच पर होंगे माया-मुलायम

185
0

मैनपुरी का क्रिश्चियन मैदान आज इतिहास रचने जा रहा हैं ।सपा -बसपा गठबंधन की आज इस मैदान पर रैली होने वाली हैं लाखों लोगों के आने की बात कही जा रही है। बसपा सुप्रीमो मायावती इस रैली में मैनपुरी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगेंगी। इसका रैली का सारा श्रेय मायावती -एवं अखिलेश यादव को जाता हैं जिन्होंने बिपरीत परिस्थितियों में भी गठबंधन को अंजाम दिया , मायावती ने भी बड़ा दिल दिखते हुए यह फैसला लिया हैं ।

राजनीती की मज़बूरी एक समय के धुर विरोधियों को 24 साल बाद एक मंच पर ले आयी हैं ।इस रैली पर पक्ष बिपक्ष सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। मैनपुरी में तीसरे चरण में मतदान होगा और 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। इस रैली में मायावती , के अलावा
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, रालोद मुखिया अजित सिंह भी संबोधित करेंगे।

गौरतलब हैं कि साल 1995 में लखनऊ के गेस्टहाउस में सपा नेताओं द्वारा मायावती पर हमला किया गया था। इसके बाद मुलायम और मायावती एक दूसरे की कट्टर दुश्मन बन गए थे । अब जबकि उस घटना को 24 साल बीत चुके हैं, इसलिए अब दोनों नेताओं ने एक मंच पर आने का फैसला किया है।

2 जून 1995 का गेस्ट हाउस कांड
मायावती ने लखनऊ के गेस्ट हाउस में पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई थी। बैठक मैं गठबंधन तोड़ने पर चर्चा हो रही थी। शाम का समय था, इसे दौरान समाजवादी पार्टी की 250 कार्यकर्ताओं और विधायकों ने गेस्ट हाउस पर हमला बोल दिया। जबरदस्त मारपीट हुई जिसमें बसपा की कई लोगों को चोट आयी ।मायावती ने खुद को एक कमरे में बंद कर दिया। कुछ देर में भीड़ मायावती के कमरे तक पहुंच गई और दरवाजा तोड़ने की कोशिश करने लगी। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने इस दौरान मायावती के साथ बदसलूकी का भी प्रयास किया। इसके कुछ देर बाद एसपी और डीएम पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मायावती की जान बचाई। मायावती को बचाने वाले अधिकारियों विजय भूषण सुभाष सिंह बघेल और तत्कालीन एसपी राजीव रंजन का जिक्र किया जाता है।

LEAVE A REPLY