Home National Corbet Park : Tuskar kills school teacher inside Corbet Park चिमटाखाल के निकट केमू की बस पर हाथी का हमला , एक...

चिमटाखाल के निकट केमू की बस पर हाथी का हमला , एक के मौत

172
0

रामनगर से बागेश्वर जा रही केमू की बस पर चिमटाखाल से करीब दो किमी दूर बिसनापानी के पास हाथी ने हमला कर दिया।

राकेश डंडरियाल

अल्मोड़ा/ रामनगर : कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के मंदाल रेंज में शनिवार को एक युवा हाथी ने हिंसक रूप धारण कर लिया, देखते ही देखते उसने एक संस्कृत के प्रवक्ता को सूंड से पटक कर जमीन पर मार दिया जिससे उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई । कॉर्बेट पार्क में जानबरों और मनुष्यों की बीच कुछ समय आमना सामना हो रहा है जिसमें कई लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी हैं ।

शनिवार के हमले में युवा हाथी ने रामनगर भौनखाल रोड पर यात्रियों से भरी बस पर ही हमला बोल दिया। हाथी जंगल से सीधे बस पर लपका तो उसे करीब आता देख बस में सवार पुरुष यात्री वाहन से उतर भागने लगे, जबकि महिला यात्रियों में चीख पुकार मच गई। इसी दौरान हाथी ने जीआइसी हरड़ा नेवलगांव (सल्ट ब्लॉक) में तैनात शिक्षकगिरीश चंद्र पांडे (50) को सूंड से लपेट का सड़क पर पटक दिया। पटकने के कुछ ही देर बाद उन्होंने दम तोड़ दिया।

घटना शनिवार सुबह करीब 6:00 बजे की है। केमू की बस संख्या यूके 04 पीए 0249 रोजाना की तरह प्रात: पांच बजे भराड़ी कपकोट (बागेश्वर) के लिए रवाना हुई। इसमें सल्ट ब्लॉक स्थित जीआइसी हरड़ नेवलगांव (अल्मोड़ा) में तैनात संस्कृत के प्रवक्ता गिरीश चंद्र पांडे (50) पुत्र स्व. जयदत्त पांडे निवासी मोहल्ला भरतपुरी रामनगर (नैनीताल) भी बैठे। रामनगर भौनखाल रोड पर कालागढ़ के चिमटाखाल से दो किमी पहले गुस्साया युवा बस की ओर दौड़ा चला आया। इसी क्षेत्र में शुक्रवार को भी टस्कर ने दो बस व एक जीप पर भी हमला किया था। लिहाजा यात्री घबरा गए। चालक ने वाहन रोक लिया। पुरुष यात्री जान बचाने के लिए बस से उतरकर भागने लगे, इसी बीच शिक्षक गिरीश चंद्र को टस्कर ने बस से उतरते ही सूंड से लपेट सड़क पर पटक दिया।

हाथी ने बस के अगले शीशे भी तोड़ डाले। बस के भीतर डरी सहमी महिलाएं रोने बिलखने लगीं। कुछ देर बाद बौखलाया टस्कर जंगल की ओर बढ़ा। तब चालक व अन्य यात्रियों ने शिक्षक को बस में बिठाकर पानी पिलाया और परिजनों को सूचना दी। इसके बाद कार से गिरीश चंद्र पांडे को रामनगर चिकित्सालय ले जाया गया, मगर तब तक काफी देर हो चुकी थी। सीटीआर के उपनिदेशक चंद्रशेखर जोशी ने कहा कि जो भी उचित मुआवजा होगा परिजनों को दिया जाएगा। हमलावर टस्कर को चिह्निïत कर रेस्क्यू ऑपरेशन के जरिये काबू पाने के बाद दूर जंगल में भेजा जाएगा।

LEAVE A REPLY