Home ANOTHER CONTROVERSY IN UTTARAKHAND: OVER CONSTRUCTION OF JHEEL झील निर्माण को लेकर भिड़े वन मंत्री हरक सिंह व विधायक दिलीप...

झील निर्माण को लेकर भिड़े वन मंत्री हरक सिंह व विधायक दिलीप सिंह रावत

204
0

कोटद्वार : बीजेपी में विधायकों का आपसी झगड़ा देर सबेर मीडिया के सामने आ ही जाता हैं । ताजा मामला हैं भारतीय जनता पार्टी के लैंसडाउन विधायक दिलीप सिंह रावत व प्रदेश कैबिनेट के दबंग मंत्री हरक सिंह रावत के बीच , यहाँ विधायक मंत्री जी पर भारी पड़ रहे है । विधायक दिलीप सिंह रावत ने मंत्री के निर्देशों पर कोटद्वार के खोह नदी में बन रही झील का सीधे-सीधे विरोध कर दिया है , जिसके बाद झील का निर्माण का काम बंद होता नजर आ रहा हैं ।

क्या है झील से जुड़ा मामला?

कोटद्वार के प्रसिद्ध सिद्धबली मंदिर के पास खोह नदी में वन मंत्री हरक सिंह रावत झील बनाने की योजना पर काम कर रहे हैं , जिसके लिए आज से खुदाई का काम शुरू हुआ था। इस बीच स्थानीय विधायक दिलीप सिंह रावत ने प्रस्तावित झील निर्माण का विरोध कर दिया है। झील निर्माण को लेकर वन विभाग के द्वारा आज खुदाई भी शुरू हो गई थी , लेकिन जैसे ही इसकी सूचना लैंसडाउन के विधायक दिलीप सिंह रावत को मिली, वैसे ही विधायक दिलीप सिंह रावत इस झील निर्माण को लेकर भड़क गए ।

दरअसल वन विभाग सिद्धबली मंदिर के पीछे सौंदर्यीकरण को लेकर कई दिनों से काम कर रहा हैं । विभाग खोह नदी पर झील बनाने जा रहा था लेकिन लैंसडाउन के विधायक और सिद्धबली मंदिर के महंत दिलीप सिंह रावत ने इस झील को मंदिर के लिए खतरा बताते हुए झील का विरोध कर दिया।

विधायक को आग बबूला होता देख वन विभाग के कर्मचारी वहां से खिसक लिए, उधर डरे हुए जिला वन अधिकारी ने भी डर के मारे अपना फोन बंद कर दिया। आला अधिकारियों को इस बात की सूचना दी गई और तुरंत निर्माण कार्य रुकवाने की बात कही गई । विधायक दिलीप सिंह रावत का तर्क है कि वन विभाग रिजर्व फॉरेस्ट की जमीन पर खुदाई कर रहा था, और यह झील भविष्य में सिद्धबली मंदिर के लिए खतरा बन सकती है, जिसके बाद फिलहाल निर्माण कार्य बंद कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY