Home Uncategorized टिहरी। प्रसव पीड़ा से तड़पती रही महिला,नहीं पसीजा डॉक्टरों का दिल

टिहरी। प्रसव पीड़ा से तड़पती रही महिला,नहीं पसीजा डॉक्टरों का दिल

235
0

राजसत्ता न्यूज ब्यूरो
टिहरी। इसे कोरोना का डर कहें या नियमों का फेर, एक गर्भवती महिला को जिला अस्पताल में तीन घंटे से ज्यादा फजीहत झेलनी पड़ी जिस कारण परिवार के लोगों को अस्पताल में जिल्लत झेलनी पड़ी। बंगियाल गांव निवासी नीलम भंडारी को प्रसव पीड़ा होने पर उसके परिजन जिला अस्पताल बौराड़ी लेकर गए, लेकिन वहां जैसे ही डाक्टर को पता चला कि नीलम के पति मनोज सिंह तीन मई को दिल्ली से घर आए हैं ,और होम क्वारंटाइन हैं , तो डाक्टरों ने नीलम का प्रसव कराने से इंकार कर दिया। मामले ने तूल पकड़ा जिसके बाद बाद शाम सात बजे हिमालयन अस्प्ताल के संचालन वाले जिला अस्प्ताल में महिला का उपचार शुरु किया गया।


शनिवार को लगभग चार बजे थौलधार ब्लॉक के बंगियाल गांव निवासी मनोज सिंह अपनी पत्नी नीलम को प्रसव पीड़ा होने पर हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट के संचालन वाले जिला अस्पताल नई टिहरी लेकर आए। महिला के पति मनोज सिंह ने बताया कि नीलम को प्रसव कराने के लिए डाक्टर ओटी में लेकर गए, डॉक्टर ने नीलम से जानकारी ली कि उसका पति कहां कम करता है तो नीलम ने सच्चाई डॉक्टर को बता दी।बस क्या था , डाक्टर ने प्रसव कराने से इंकार कर दिया। डाक्टरों का कहना था कि क्वारंटाइन हुए व्यक्ति की पत्नी को अस्पताल में भर्ती नहीं किया जा सकता। जिसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया।
इस दौरान वहां से गुजर रहीं पूर्व प्रमुख बेबी असवाल भी अस्पताल पहुंची और डाक्टरों को महिला को भर्ती करने के लिए कहा , लेकिन हिमालयन अस्पताल प्रबंधन आपस में इसी मुद्दे पर चर्चा में मशगूल रहा। जिसके बाद पूर्व प्रमुख बेबी असवाल ने एसडीएम फिंचाराम चौहान से फोन पर बात की जिसके बाद एसडीएम अस्पताल पहुंचे और हिमालयन अस्पताल प्रबंधन के अधिकारियों को खूब लताड़ लगाई। एसडीएम ने महिला को अस्पताल में उपचार कराने के निर्देश दिए। इस दौरान जिला अस्पताल के सीएमएस डा. अमित राय ने भी महिला को भर्ती कराने के लिए कहा तो उनके साथ भी प्रबंधन के अधिकारी पुनीत गुप्ता की बहस हो गई। सीएमएस डा. अमित राय ने बताया कि पीपीई किट पहनकर महिला का प्रसव कराने के लिए कहा गया लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने उनकी नहीं सुनी जिसके बाद आला अधिकारियों को इसकी जानकारी दी गई।

LEAVE A REPLY