Home 15 tree chopped in Nagarkotiyana थराली विधानसभा के नगरकोटियाना में खनन की भेंट चढ़े 15 हरे भरे पेड़

थराली विधानसभा के नगरकोटियाना में खनन की भेंट चढ़े 15 हरे भरे पेड़

143
0

सुभाष पिमोली

चमोली। थराली विधानसभा के अंतर्गत हरमनी से सटे नगरकोटियाणा खनन से जुड़े लोगों ने इलाके में खनन करने के लिए 15 हरे ,फलदार , छायादार पेड़ो का सरेआम कत्लेआम कर दिया हैं । इससे पहले जिलाधिकारी चमोली ने रीवर ट्रेनिंग के पट्टे जारी किए थे,नीलामी में इस रीवर ट्रेनिंग का आधार मूल्य साढ़े नौ लाख रुपये सरकार की ओर से तय किया गया, और उच्चतम बोली में रीवर ट्रेनिंग का ये पट्टा 47 लाख में बिका । गौरतलब हैं क़ि खनन से जुड़े लोगों को खनन पट्टे तक पहुंचने के लिए पहुंच मार्ग की व्यवस्था खुद ही करनी पड़ती है। जिसके बाद यहां खनन व्यवसायियों ने खनन पट्टे तक पहुंचने के लिए रास्ता बनाने के लिए 15 हरे ,फलदार और छायादार पेड़ो का कत्लेआम कर दिया।
नगरकोटियाणा में आवंटित खनन पट्टे तक पहुंच मार्ग बनाने में खनन व्यवसायियों ने जिन 15 पेड़ो को काट कर गिरा दिया है, उनमें 5 पेड़ मेहल ,4 अखरोट, 2 खडीक,1 तिमिल,1 भीमल,1 निम्बू और एक पेड़ गैथी का है ।

खनन से जुड़े लोगों ने बीआरओ द्वारा निर्माणाधीन सड़क ग्वालदम कर्णप्रयाग मोटरमार्ग को भी क्षति पहुंचाई है।खनन व्यवसायियों द्वारा वन संपदा को पहुंचाई गई क्षति से तो लगता है इन्हें न ही नियमो का कोई वास्ता है और न ही प्रशासन का कोई डर। हालांकि वन विभाग ने सूचना दिए जाने पर मौके का निरीक्षण कर वन संपदा को पहुंचाए गए नुकसान का जायजा ले लिया है ।

वन क्षेत्राधिकारी नारायणबगड़ भवान सिंह परमार ने बताया कि खनन व्यवसायियों द्वारा 15 हरे पेड़ो को काटा गया है। वन संपदा को पहुंचाए गए नुकसान का आंकलन किया जा रहा है, जिसके बाद सम्बंधित व्यक्तियों का वन अधिनियम एक्ट में चालान कर जुर्माना लगाया जाएगा ।इस बीच वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों में भी काटे गए पेड़ो की संख्या को लेकर अभी भी संशय बना हुआ हैं , रेंज अधिकारी के मुताबिक 15 हरे पेड़ो का नुकसान हुआ,तो फ़ॉरेस्ट गार्ड दिलमणि देवराड़ी ने मीडिया से कहा क़ि 12 पेड़ो का के नुकसान हुआ हैं ।

LEAVE A REPLY