Home Garhwal Forest Conservator N N Pandey meet Pindar vally villagers देवाल पहुंचे गढ़वाल वन संरक्षक एनएन पांडे़। जनप्रतिनिधियों से भेट में कहा...

देवाल पहुंचे गढ़वाल वन संरक्षक एनएन पांडे़। जनप्रतिनिधियों से भेट में कहा जल्द होगा क्षेत्र की लंबित सड़को का काम शुरू

169
0

पिंडर घाटी में वन विभाग के पास लंबित सड़को के मामलों का वरियता से निस्तारण किया जायेगा । इसके साथ ही पर्यटन नगरी ग्वालदम के सौंदर्यीकरण व विकास के लिए विभाग विशेष प्रयास कर रहा हैं।

सुभाष पिमोली

चमोली:: पिंडर घाटी के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे गढ़वाल के वन संरक्षक एनएन पांडे़ ने देवाल वन विभाग के बंगले में पिंड़र क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों से भेट कर कहा,कि वन विभाग के कारण लम्बित सड़कों के निराकरण का विभाग प्रयास कर रहा हैं।

इस मौके पर देवाल ब्लाक प्रमुख दर्शन दानू, देवसारी के क्षेपंस रमेश राम,पूर्व क्षेपंस हरेंद्र सिंह बिष्ट ,कांग्रेस के प्रदेश सदस्य महावीर बिष्ट आदि के द्वारा उठाये गयें ग्वालदम- नंदकेशरी मोटर सड़क से देवसारी मोटर सड़क निर्माण कार्य में पेडो़ं की छपान ना होने के चलते कार्य शुरू ना होने की बात कही, जिस पर पर कंजरबैटर पांडे ने 15 मार्च तक पेड़ो के छपान के आदेश दिये जानेे,ल्वाणी से इजरपाट,मनमती से चोटिंग-हरमल- झलियां स्विकृत प् मोटर सड़को में वन भूमि हस्तांतरण की कार्यवाही में तेजी लाने का आश्वासन दिया।

इसके साथ ही देवसारी गांव के ग्रामीणों को हक छपान मघ्य पिंडर रेंज थराली के बजाय पूर्वी पिंडर रेंज देवाल में देने का प्रस्ताव वन विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय से देने,की भी बात कही। देवाल के प्रमुख दर्शन दानू की मांग पर पांडे ने वन क्षेत्राधिकारी त्रिलोक सिंह बिष्ट को वन विभाग के धार बंगले का जीर्णोधार व क्षेत्र के विभागीय पैंदल मार्गो की मरम्मद कियें जाने,दवानल के कारण वृक्ष विहिन हो चुके जंगलों में वृहद् रूप से वृक्षारोपण के प्रस्ताव उन्हे भेजने के निदेश दिये।

वन संरक्षक गढ़वाल ने बताया की सरकार की घोषणा के अनुरूप पहले चरण में चमोली के भराड़ीसैंण से बेनीताल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित किया जा रहा हैं। दूसरे नम्बर पर गढ़वाल व कुमाऊ के बीच स्थित ग्वालदम को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा।

उन्होने बताया की वेदनी सहित उच्च हिमालयी क्षेत्र के बुग्यालो में हाईकोर्ट नैनीताल की रोक को हटाने के लिए राज्य सरकार ने उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी हैं। आशा हैं कि राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप फैसला आ जायेगा।उसके बाद विभाग के द्वारा वेदनी सहित अन्य बुग्यालों का पर्यटन के अनुरूप विकास किया जायेगा।

इस मौके पर वन विभाग के डिप्टी रेंजर टीएस बिष्ट,वन दरोगा सुरेंद्र बिष्ट,वाश्वानंद चमोला ग्राम प्रधान प्रधुमन सिंह बिष्ट,पूर्व प्रधान हरेंद्र गडिया, ऊदेपुर के सरपंच दलवीर सिंह, पूर्व क्षेपंस रमेश गड़िया ,ललित बिष्ट आदि ने गढ़वाल चीफ को समस्याऐ बताई।

LEAVE A REPLY