Home Uncategorized द्वितीय केदार भगवान मदमहेश्वर के कपाट खोलने की प्रक्रिया हुई शुरू

द्वितीय केदार भगवान मदमहेश्वर के कपाट खोलने की प्रक्रिया हुई शुरू

194
0

11 मई को खुलेंगे द्वितीय केदार मदमहेश्वर के कपाट


शम्भू प्रसाद

रुद्रप्रयाग/ऊखीमठ। पंच केदारों में द्वितीय केदार भगवान मद्धमहेश्वर के कापट खुलने की प्रक्रिया शूरु हो गयी हैं ,गुरुवार को ऊखीमठ स्थित पंचकेदारेश्वर गद्धी स्थल ओकारेश्वर मन्दिर में भगवान मद्महेश्वर की मूर्ति को वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ गर्भ गृह के सभा मण्डप में लाया गया। कोरोना संक्रमण के प्रावधानों के तहत प्रशासन द्वारा नियुक्त स्थानीय गावों की महिलाओं ने परम्परानुसार भगवान मदमहेश्वर को नये अनाज का भोग लगाया अर्पित किया।


द्वितीय केदार मदमहेश्वर के कपाट खुलने की तिथि 11 मई को तय हुई है।कोरोना महामारी के चलते सभी धामों के कपाट खोलने की प्रक्रिया में केवल परम्पराओं का निर्वहन किया जा रहा है। इस प्रक्रिया का अनुसरण कर गुरुवार को पंरम्पराओं के अनुसार तय सिमित लोगों की उपस्थिति में भगवान मदमहेश्वर की मूर्ति को सभा मण्डप में विराजमान किया गया शनिवार को भगवान मदमहेश्वर की डोली ऊखीमठ से अपने धाम के लिए रवाना होगी। लॉकडाउन को देखते हुये केदारनाथ की डोली की तरह भगवान मदमहेश्वर की डोली को भी मंगोलचारी से रांसी तक वाहन में ले जाया जा सकता है ।  
गुरुवार को ओकारेश्वर मन्दिर के प्रधान पुजारी बागेश्वर लिंग व मदमहेश्वर धाम के पुजारी गंगाधर लिंग द्वारा भगवान ओंकारेश्वर सहित पंचनाम देवी – देवताओं की पूजा अर्चना कर जलाभिषेक किया गया तथा भगवान मदमहेश्वर की चल विग्रह उत्सव भोग मूर्तियों को परम्परानुसार सभा मण्डप लाया गया तत्पश्चात ब्राह्मणों, वैद पाठियों द्वारा भगवान मदमहेश्वर की मूर्तियों की विशेष पूजा की गयी तथा डगवाडी, बाह्मणखोली व पजपाणी की दो – दो महिलाओं द्वारा भगवान मदमहेश्वर को नये अनाज का भोग अर्पित किया गया।
कहा जा रहा है कि भगवान मदमहेश्वर की डोली मंगोलचारी तक परम्परा के अनुसार पैदल रास्ते से जायेगी वहां से वाहन द्वारा राकेश्वरी मन्दिर रांसी तक पहुंचेगी। इस दौरान  लॉकडाउन के नियमों का सख्ती से पालन किया जायेगा इस मौके पर देवास्थानम बोर्ड के वीडी सिह, विश्व मोहन जमलोकी आदि भी मौजूद थे।
शुक्रवार को भगवान सभामंडप में ही विराजमान रहेंगे। शनिवार यानि 9 मई को डोली ओंकारेश्वर मन्दिर से राकेश्वरी मन्दिर रांसी के लिए प्रस्थान करेगी। रविवार को रांसी से गोंडार एव सोमवार को गोंडार से धाम के लिए प्रस्थान करेगी जहां पर प्रातः 11 बजे भगवान मदमहेश्वर के कपाट खोल दिए जाएंगे।

LEAVE A REPLY