Home Uncategorized पहाड़ में शराब : पैसा कमाने के लिए शराब बनाया जाना...

पहाड़ में शराब : पैसा कमाने के लिए शराब बनाया जाना गलत है और उत्तराखंड के लिए तो यह आत्महत्या जैसी बात है। भुवन चंद्र खंडूड़ी

264
0

पहाड़ में शराब : पैसा कमाने के लिए शराब बनाया जाना गलत है और उत्तराखंड के लिए तो यह आत्महत्या जैसी बात है। भुवन चंद्र खंडूड़ी

दिल्ली / देहरादून। देवप्रयाग और टिहरी में शराब के बॉटलिंग प्लांट को मंजूरी दिए जाने के फैसले के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी भी मैदान में उतर गए हैं । उन्होंने कहा कि पैसा कमाने के लिए शराब बनाया जाना उत्तराखंड के लिए आत्महत्या जैसी बात है। गौरतलब हैं कि देवप्रयाग से लगभग 36 किलोमीटर दूर शराब के बॉटलिंग प्लांट को मंजूरी दी गई अब यह बॉटलिंग प्लांट शुरू हो गया है। इसके अलावा टिहरी में भी एक कंपनी को बॉटलिंग प्लांट की अनुमति दी गई है। जिसका पिछले एक महीने से स्थानीय निवासी विरोध कर रहे हैं ।

हालांकि, शराब के बॉटलिंग प्लांट को मंजूरी पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने दी थी, लेकिन प्लांट अब धरातल पर अब उतर रहे हैं। शराब के बॉटलिंग प्लांट को लेकर इन दिनों राज्य में सियासत गर्माई हुई है।

देवप्रयाग में शराब बॉटलिंग प्लांट के मामले ने राज्य की दो पार्टियों कांग्रेस और उत्तराखंड क्रांतिदल को भी जिंदा कर दिया है। लोकसभा चुनाव के बाद अब तक कन्फ़्यूज़न में दिख रही कांग्रेस इस मामले में हमलावर हो गई है तो यूकेडी भी मैदान में कूद गई है.
अब पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूड़ी भी शराब के बॉटलिंग प्लांट के विरोध में उतर आए हैं। दिल्ली में जारी अपने वक्तव्य में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि शराब से पहाड़ के जनमानस का नुकसान हो और वहां के लोग जमीन जायदाद बेचकर शराब पिएं, इसके वे सख्त खिलाफ हैं।
खंडूड़ी ने कहा हैं कि सरकार चाहे किसी की भी, उसे यह अधिकार कतई नहीं कि वह उत्तराखंड के मूलस्वरूप एवं देवभूमि के खिलाफ जाने का काम करे। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि शराब को सुविधा के रूप में रखा जाना चाहिए न कि आय कमाने के रूप में। उन्होंने कहा कि पैसा कमाने के लिए शराब बनाया जाना गलत है और उत्तराखंड के लिए तो यह आत्महत्या जैसी बात है।

LEAVE A REPLY