Home CM TRIVENDRA SINGH RAWAT TO INAUGURATE KHIRSHU STAY HOME ON 25TH JANUARY पौड़ी गढ़वाल : खिर्सू में बने पहाड़ी शैली के स्टे होम का...

पौड़ी गढ़वाल : खिर्सू में बने पहाड़ी शैली के स्टे होम का 25 जनबरी को मुख्यमंत्री करेंगे लोकार्पण

311
0

दिलवर सिंह बिष्ट

रुद्रप्रयाग/खिर्सू।हिमालयी राज्यों में अगर प्रकृति ने किसी को नैसर्गिक सौंदर्य दिया हैं तो वह हैं उत्तराखंड राज्य । कुदरती सुंदरता से आच्छादित यह राज्य पर्यटन के क्षेत्र में तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश में पर्यटकों की बढ़ती तादाद बताती है कि राज्य सरकार पर्यटन को लेकर कितनी फिक्रमंद है। इसी सिलसिले को गति देते हुए राज्य सरकार ने पौड़ी जनपद के खिर्सू ब्लाॅक में एक नई पहल की है। सरकार की इस अनूठी पहल के तहत खिर्सू में पारंपरिक पहाड़ी शैली में होम-स्टे का निर्माण किया गया है। जो खिर्सू के सौंदर्य में चार चांद लगा देगा।

पत्थरों पर नक्काशी कर बनाया गया यह भवन राज्य की होम स्टे योजना का एक अनुपम उदाहरण है। इसका लोकार्पण प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अपने सहयोगी मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत की उपस्थिति में करेंगे। प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज खिर्सू को प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत एक अनूठी सौगात देने जा रहे हैं, जो खिर्सू ही नहीं बल्कि प्रदेश के पर्यटन क्षेत्र के लिए एक अनमोल धरोहर होगी।

प्रदेश मेें पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने होम स्टे जैसी योजना को लागू किया। इसी योजना के तहत खिर्सू में एक होम स्टे का निर्माण किया गया है जो पूरी तरह से पहाड़ी शैली में बना है। यह होम स्टे पहाड़ की समृद्ध और वैभवशाली संस्कृति का प्रतीक भी है।

‘बासा’ है होम स्टे का नाम

पहाड़ी शैली में निर्मित इस होम स्टे का नाम ‘बासा’ रखा गया है। दरअसल, पहाड़ में रात्रि विश्राम को ‘बासा’ कहा जाता है। यही वजह है कि इस होम स्टे को ‘बासा’ नाम दिया गया है। चूंकि देश-विदेश से आने वाले पर्यटक यहां रात्रि विश्राम के लिये आयेंगे और यहां की आबोहवा और पर्यटक स्थलों के सौंदर्य का आनंद उठायेंगे।

आर्थिकी से भी जुड़ेगा ‘बासा’

होम स्टे योजना के तहत तैयार ‘बासा’ स्थानीय आर्थिकी में भी अपनी अहम भूमिका निभायेगा। स्थानीय प्रशासन का कहना है कि ‘बासा’ का संचालन क्षेत्र उन्नति समूह द्वारा किया जायेगा। इसके लिए समूह की महिलाओं को बकायदा कैटरिंग से लेकर अन्य प्रबंधकीय कार्यों में प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इतना ही नहीं ‘बासा’ के बगल में जिला योजना के तहत विपणन केंद्र भी खोला जायेगा जहां महिलाएं स्थानीय उत्पादों का विक्रय कर सकेंगी। राज्य सरकार की इसके पीछे यह मंशा है कि पर्यटन के साथ-साथ स्थानीय काश्तकारों, किसानों के उत्पादित दाल, सब्जी, फल को स्थानीय स्तर पर ही बाजार मुहैया करवाना है।

वहीं प्रदेश के सहकारिता एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने कहा कि खिर्सू पर्यटकों का पसंदीदा हिल स्टेशन है। राज्य सरकार खिर्सू के साथ-साथ ग्वाड़ गांव को भी टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित कर रही है। इसके लिए गांव के प्रत्येक मकान में एक कमरा होम स्टे योजना के तहत निर्मित किया जायेगा। सरकार का मकसद पयर्टन को आर्थिकी से जोड़कर पलायन और बेरोजगारी को खत्म करना है।
उधर सहकारिता एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत के जनसंपर्क व मीडिया प्रभारी वी.पी. सिंह बिष्ट ने बताया कि आगामी 25 जनवरी को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत खिर्सू में स्थानीय लोगों को कई सौगात देंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत बहुप्रतिक्षित ढिकालगांव-खिर्सू पेयजल पम्पिंग योजना और ‘बासा’ होम स्टे भवन सहित कई योजनाओं का लोकार्पण करेंगे।

LEAVE A REPLY