Home adopt agriculture with positive mind बेहतर भविष्य के लिए कृषि को चुने युवा , नकारात्मकता को छोड़,...

बेहतर भविष्य के लिए कृषि को चुने युवा , नकारात्मकता को छोड़, आगे बढ़े

206
0

दिलबर सिंह बिष्ट

अगस्त्यमुनि: पशुपालन बिभाग , कृषि एवं , उद्यान विभाग द्वारा प्रायोजित कार्यक्रम “पहाड़ी कृषि युवाओं के लिए एक बेहतर कैरियर विषय” पर अगस्त्यमुनि कालेज के बी.ए, एम.ए, एम.एस.सी, व बीएड के विद्यार्थियों ने बृहस्पतिबार को एक दिवसीय कार्यशाला में सम्मिलित हुए ।मुख्य अतिथि मुरली सिंह चैधरी ने कोदा झगोरा खायेंगे देहरादून से मंगायेगे के नारे से सम्बोधित करते हुए कहा कि पहाड़ का युवा पहाड़ में कार्य करने को तैयार नही है। शिक्षित युवा/युवती अपने गांव में रूक कर वैज्ञानिक तरीके से कृषि एवं कृषि सम्बद्ध कार्य कर सकते है। उन्होने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि जब वे दिव्यांग होकर कृषि कार्य कर अपनी अच्छी आमदानी कर सकते है तो बाकी अन्य भी कर सकते है।
कार्यशाला में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने अपने सम्बोधन में छात्र- छात्राओं से अपील की कि नकारात्मक विचारों को त्याग कर अगर निश्चित संकल्प से लक्ष्यों को निर्धारित कर यदि कार्य किया जाय तो मुश्किल कार्य को भी साधा जा सकता है।

उन्होने उदाहरण देते हुए कहा कि पानी का खाली गिलास व्यक्ति की सोच पर निर्भर करता है। वह उसे आधा भरा या आधा खाली किस दृष्टि से देखता है। साथ ही उन्होने सफल उद्यमियों के उदाहरण के साथ छात्र-छात्राओं से अपील की कि वे कृषि में बेहतर सम्भावनाओं को तराशते हुए बेहतर कार्य कर सकते है, एवं पहाड़ में रहकर ही स्वच्छ जीवन व्यतीत कर सकते है। जिससे पलायन तो रूकेगा ही पहाड़ो में विकास की अवधारणा भी फलीभूत होगी।

जिलधिकारी ने बताया कि कार्यशाला में हरिद्वार में आई टी सी कंपनी में कार्यरत युवाओ को भी आमंत्रित किया गया है, जो गांव से पलायन कर निजी क्षेत्रों में कार्यरत है एवं निजी क्षेत्र में बेहतर भविष्य उपलब्ध न होने के कारण वर्तमान मेें पुनः ग्रामीण क्षेत्रों से जुड़ कर कृषि को जीवन यापन का माध्यम बनाना चाहते है।

इस दौरान कई कई लोगों ने अपने अपने अनुभव साँझा किये , सेमिनार में प्रगितिशील उद्यमियों द्वारा बताया कि जब उन्होने रिवर्स माईग्रेषन किया तो अपने ही परिवार व लोगो के द्वारा हेय दृष्टि से देखा जाता था। साथ ही परिवार के सदस्य उन्हें वापिस महानगर, देहरादून जैसे शहर में जाने के बोलते थे। किन्तु दृढ इच्छा शक्ति मेहनत, परिश्रम से वे सफल हुए है। अपनी सफलता से आज गांव के अन्य लोगो को भी रोजगार दे रहे है।
इस अवसर पर प्राचार्य डिग्री कालेज डाॅ0 आषा देवी, प्रगतिषील उद्यमी कपिल शर्मा, रंजना रावत, राकेष बिष्ट, संदीप गोस्वामी, कैलाष गोस्वामी, आईटीसी हरिद्वार से सुरेन्द्र सिंह रौथाण, पशु चिकित्साधिकारी डाॅ0 रमेष नितवाल, जिला उद्यान अधिकारी योगेन्द्र सिंह चैधरी, मुख्य कृषि अधिकारी एस0एस0वर्मा, डाॅ0 हरिओम बहुगुणा सहित अन्य अधिकारी षिक्षक व छात्र-छात्राये उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY