Home Uncategorized भगवान शंकर के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के कपाट खुले

भगवान शंकर के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के कपाट खुले

215
0

दिलवर सिंह बिष्ट
रुद्रप्रयाग- समुद्र सतह से 11750 फीट की ऊंचाई पर स्थित भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ धाम के कपाट आगामी ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिये गये है। आज प्रातः पूजा अर्चना व विधिविधान से लग्नानुसार 6.10 बजे मेष लग्न में केदारनाथ के पुजारी व प्रशासन की उपस्थिति में मंदिर के कपाट खोल गये है। कपाट खुलने के बाद आगामी छः माह तक भगवान भोलेनाथ की  पूजा-अर्चना केदारनाथ धाम में सम्पन्न होगी।

इस बार कोराना संक्रमण के चलते प्रशासन द्वारा तय गिनती के लोग ही केदारनाथ कपाटोद्घाटन में उपस्थिति रहे। लॉकडाउन के चलते देश विदेश के श्रद्धालु कपाटोद्घाटन के साक्षी नहीं बन पाये। प्रातः काल से मंदिर में पूजा अर्चना शुरु की गई । मंदिर के मुख्य पुजारी शिव शंकर लिगं द्वारा छैत्रपाल भैरवनाथ के आवाह्न के साथ ही गर्भ गृह की पूजा अर्चना व वेद मंत्रोचार के बीच धाम के कपाट खोल दिये गये । मंदिर को भब्य रुप से लगभग 10 कुंतल फूलों से सजाया गया है। कोरोना संक्रमण को देखते हुये जिला प्रशासन ने कपाटोद्घाटन सहित मंदिर में पूजा अर्चना में केवल मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग सहित 16 अन्य लोगों को ही शामिल होने की इजाज़त दी थी।

मंदिर के मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग ने बताया कि मंदिर में सभी धार्मिक परंपराओं का निर्वहन पूर्व की भांति किया गया। कपाट खुलने के मौके पर कोई भी भक्त मौजूद नहीं था। मुख्य पुजारी समेत देवस्थानम बोर्ड के कुछ सदस्य ही मौजूद थे।
शीतकाल के छह महीनों तक पंचगद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में विश्राम करने के बाद अब भगवान आने वाले छह महीनों तक केदारनाथ में ही विराजमान रहेंगे।यह शायद पहला मौका है जब केदारनाथ धाम के कपाट खुलने समय मंदिर प्रांगण खाली था ।

LEAVE A REPLY