Home BUSINESS मिलिए चीन में आठ रेस्टोरेंटो के मालिक टिहरी के द्वारिका प्रसाद रतूड़ी...

मिलिए चीन में आठ रेस्टोरेंटो के मालिक टिहरी के द्वारिका प्रसाद रतूड़ी से

520
0

नाम- देव रतूड़ी (द्वारिका प्रसाद रतूड़ी)
चीनी नाम : डी.फ़ू (De Fu )
गांव- केमरिया सौड़, टिहरी गढ़्वाल
शिक्षा- चमियाला इंटर कालेज से हाईस्कूल
संपत्ति- चीन में रेडफोर्ट और अंबर नाम से सात रेस्टोरेंट की चेन
2011 में अंजली से की शादी
देव कई चीनी फिल्मो में भी काम कर चुके है

देहरादून : टिहरी के गांव केमरसौड़ से 10 वीं पास की इसके बाद आम पहाड़ियों के तरह रोजगार की तलाश में दिल्ली पहुंचे . दिल्ली की एक डेयरी में गाय-भैसों को नहलाया, घर घर दूध बेचा। बस महज 400 रुपये के लिए।

देहरादून के मेयर सुनील गामा से मिलते हुए देव रतूड़ी

24 साल के बाद आज गांव का सीधा-सीधा युवक द्वारिका प्रसाद रतूड़ी चीन में एक जाना माना होटल व्यवसायी देव रतूड़ी बन चुका है। आज चीन में उनके रेडफोर्ट इंडियन रेस्तरां नाम से चार होटल और अंबर नाम से तीन मशहूर रेस्तरां की चेन है। यही नहीं देव चीनी फिल्मों के साथ साथ इस वक्त देव हॉलीवुड की फिल्मों में भी दस्तक दे चुके हैं।
आजकल देव उत्तराखंड आए हुए हैं और वो भी उत्तराखंड में 500 करोड़ के निवेश का इरादे के साथ। देव रतूड़ी बताते हैं कि वो और उनके कुछ मित्रों ने भारत में निवेश का निर्णय किया है। करीब 500 करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य है। इस संबंध में हिमाचल प्रदेश सरकार के साथ बात हेा चुकी है। हिमाचल भी काफी इच्छुक हैं। उतराखंउ का होने की वजह से मेरी इच्छा है कि निवेश यहीं हो। इसके लिए प्रयास किया जा रहा है। बीते रोज देव ने इस सिलसिले में पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर से भी मुलाकात की। अक्टूबर में चीन के कारोबारियों का प्रतिनिधिमंडल दून आएगा।

जीरो से हीरो तक का सफर

देव बताते हैं कि 1995 में दिल्ली में एक डेयरी में महज 400 रुपये से नौकरी की।
1998 में अपने भाई के साथ मुंबई चले गए। भाई बालीवुड के अभिनेता पुनीत इस्सर के ड्राइवर थे।
2005 में चीन के शियान शहर में एक होटल में वेटर की नौकरी की । वहां रहते हुए उन्होंने चीनी भाषा सीखी तो वहां होटल में तरक्की के विकल्प खुल गए।

देव के अनुसार 2013 में शियान में बन रहे एक मॉल में भारतीय रेस्त्ररा खोलने का मौका मिला। मेरे पास तो पैसा था नहीं तो पुराने मालिक रामकुमार यादव से सहयोग मांगा। उन्होंने भी बड़ा दिल दिखाते हुए फाइनेंस कर दिया। इसके बाद (द्वारिका प्रसाद रतूड़ी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। आज उनके पास शियान में रेडफोर्ट रेस्त्ररां जानमाना भारतीय रेस्त्रां है। आज वहां इस नाम से वहां चार रेस्तरां हैं। इसके बाद अंबर नाम से तीन और रेस्तरां भी खोले।

LEAVE A REPLY