Home Hilance open its outlet in Rudraparyag रुद्रप्रयाग : हिलांस आउटलेट खुलने से नैना सहकारिता समूह की विपणन समस्या...

रुद्रप्रयाग : हिलांस आउटलेट खुलने से नैना सहकारिता समूह की विपणन समस्या ख़त्म

211
0

सतेंद्र सिंह बिष्ट

रुद्रप्रयाग।बच्छणशयूं पट्टी में स्थित एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना के तहत गठित नैना देवी सहकारिता क्लस्टर बाड़ा विगत तीन वर्षों से स्थानीय उत्पाद व कृषि के क्षेत्र में बृहद स्तर पर कार्य कर रहा है। अभी तक क्षेत्र में अधिक स्थानीय उत्पादों के विपणन की ब्यवस्था न होने के कारण किसानो को भारी नुकसान झेलना पड़ता था। अब जनपद में हिलांस आउटलेट स्थानीय उत्पादन का विपणन केंद्र खुलने से इस केंद्र में क्षेत्र के सभी कास्तकारों की उत्पादक फसलों में स्थानीय दाल, चावल, झंगोरा,मंडवा आटा ,चौलाई का आटा ,जख्या ,भांग का दाना एवं दूध-दही, अचार ,व शहद आदि स्थानीय उत्पादन हर समय उपलब्ध मिलता है।

नैना सहकारिता समूह के कोऑर्डिनेटर अर्जुन सिंह रावत ने जानकारी देते हुए बताया कि एकीकृत आजीविका सहयोग परियोजना के माध्यम से गठित नैना सहकारिता कलस्टर बाड़ा क्षेत्र में विगत 3 साल से स्थानीय काश्तकारों के साथ कृषि करण पर कार्य कर रही है। सहकारिता द्वारा अपने कार्य क्षेत्र में 30 गांव में 70 समूह गठित किए गए हैं , समूह में 600 से ज्यादा परिवार जुड़े हैं, परियोजना से जुड़ने के बाद कई काश्तकार ऐसे उभरकर सामने आए, जिन्होंने अपनी खेती को खुद के लिए रोजगार का जरिया बना दिया। ग्राम पंचायत बाड़ा से राजेंद्र सिंह पटवाल रामपुर से वेद प्रकाश रतूड़ी कांडाई से रविंद्र सिंह बिष्ट सहित कई कास्तकारों ने कृषि के क्षेत्र को अपना कर रोजगार का माध्यम बना लिया है ।

बच्छणशयूं पट्टी में मोटे अनाज का उत्पादन काफी अच्छी मात्रा में होने से नैना सहकारिता द्वारा फार्म मशीनरी को खरीदा गया है। जिसमें थ्रेशर मशीन, पावर ट्रेलर ,कुटाई एवं पिसाई की मशीनें शामिल है।भविष्य में सभी परिवारों को परियोजना से जोड़ा जाएगा तथा कृषि करण पर जोर दिया जा रहा है।जिससे रोजगार के अवसर अपनी खेती से उपलब्ध हो सके जिसको लेकर सरकार की तरफ से काफी प्रयास किए जा रहे हैं ताकि पलायन ना हो माह के अंत तक क्षेत्र में हल्दी एवं अदरक कि बुवाई हेतु काश्तकारों को बीज दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY