Home Uncategorized वाकई मर गई हैं मानवीय संवेदनाए, दुबई से दिल्ली आए टिहरी के...

वाकई मर गई हैं मानवीय संवेदनाए, दुबई से दिल्ली आए टिहरी के युवक का शव वापस दुबई भेजा

379
0

सात समंदर पार से देश की धरती पर आया कमलेश भट्ट का शव लेकिन लूली लंगड़ी व्यवस्था की भेट चढ़कर वापस दुबई चला गया गरीब माँ का लाडला ।  क्या गरीबों के लिए इस देश में कोई जगह नहीं हैं?

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

उसे भारत की माटी को छूने का तो मौका मिला, लेकिन पैदा करने वाली माँ के सामने होने पर भी दूर चला गया

टिहरी: 16 अप्रैल का दिन टिहरी जिले के हरी प्रशाद परिवार के लिए एक अशुभ दिन बनकर आया जब उन्हें पता चला कि उनका बेटा जो दुबई में नौकरी कर रहा था, अब नहीं रहा। कमलेश आबू धाबी नेशनल होटल नाम की कंपनी में काम करता था । वह मूल रुप से टिहरी जिले में सकलाना पट्टी के सेमवाल गांव का निवासी था। बीती 16 अप्रैल को हार्ट अटैक आने के बाद उनकी वहां मौत हो गई। परिजनों को पता चलने के बाद उन्होंने प्रशासन से शव को भारत लाने की मांग की। पहले तो लॉकडाऊन के कारण परिवार का इधर उधर भटकना रहा , उसके बाद बड़ी मुश्किल से वे लोग दिल्ली पहुंचने में कामयाब रहे लकिन भाग्य के खेल देखिये ,दुबई में काम कर रहे सामजिक कार्यकर्ता रोशन रतूड़ी के प्रयासों से 23 अप्रैल की रात को दुबई के आबूधाबी एयरपोर्ट से कमलेश के शव को दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पंहुचा , लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण के चलते शव को एयरपोर्ट पर नही उतारा गया। और शव को दुबारा दुबई भेज दिया गया।

सवाल उठता हैं क्या इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर काम करने वाले अधिकारीयों की मानवीय संवेदनाय मर गई हैं , क्या उन्हें नही पता था कि कैसे किसी शव का दुबई से भारत भेजा गया हैं , क्या कोई शव बिना भारतीय दूतावास की परमीसन के बाद जहाज में लोड किया जा सकता हैं ? की एयरपोर्ट पर सभी सिरफिरे अधिकारी थे , खैर कमलेश के शव के साथ विमान ने उड़ान भरी और अपनी माटी का छूकर कमलेश वापस दुबई चला गया ,परिजन निराश होकर वापस टिहरी चले गए। 
कमलेश भट्ट का एक छोटा भाई है और वह बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखता हैं। कमलेश के परिवार में पिता हरी प्रसाद के अलावा एक भाई और माँ हैं एक बहन की शादी हो चुकी हैं । कमलेश लगभग 25 साल का था और लगभग 3 साल से आबूधाबी काम कर रह रहा था। कमलेश साल भर में घर आता था, पिछले साल वो मई में अपनी बहन की शादी में 15 दिन की छुट्टी में घर आया था।
कमलेश का शव जब वापस दुबई पंहुचा तो सामाजिक कार्यकर्ता रोशन रतूड़ी ने भारत सरकार पर अपनी भड़ास इस प्रकार निकाली, देखिये वीडियो। https://www.facebook.com/watch/live/?v=2975255865854293&ref=watch_permalink

LEAVE A REPLY