Home IN VIRAL VIDEO CONTROVERSY वायरल वीडियो मामले में चैंपियन की विदाई तय : बीजेपी अब राणा...

वायरल वीडियो मामले में चैंपियन की विदाई तय : बीजेपी अब राणा जी को माफ़ करने की मूड में नहीं

256
0

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 जुलाई 2019 को दिल्ली में बीजेपी संसदीय दल की बैठक में बीजेपी के बैटमार विधायक आकाश विजयवर्गीय का नाम लिए बिना कहा था कि वह चाहे किसी का भी बेटा क्यों न हो, उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाना चाहिए। उसे तो अभी तक पार्टी से निकला नहीं गया हैं , लेकिन अब उत्तराखंड का एक बिगड़ैल विधायक जो हमेशा सुर्ख़ियों में बने रहते हैं उनपर बीजेपी अब क्या कार्रवाही करती हैं कुछ दिनों में पता चल जाएगा ।

क्या कहा अनिल बलूनी ने

@ANI
BJP national media in-charge Anil Baluni: I’ve seen that video. I condemn it. These kind of complaints came against Pranav Singh Champion earlier as well, that’s why he was suspended for 3 months. We’ll talk to Uttarakhand unit about it. Strict action will be taken

क्या हैं मामला

उत्तराखंड में अक्सर विवादों में रहने वाले खानपुर के भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन का एक नया वीडियो सोशल मीडिया में जारी हुआ है। वीडियो कब बनाया गया इसकी पुष्टि नहीं हो पाइ हैं । वायरल वीडियो को लेकर लेकर चैंपियन का कहना है कि ये उनके खिलाफ साजिश है।उनका कहना हैं कि सभी लाइसेंसी हथियार हैं और लोडेड नहीं हैं। शराब पीने को लेकर उन्होंने सवाल किया, क्या शराब पीना और लाइसेंसी बंदूक रखना अपराध है।

बिबादास्पद वीडियो में चैंपियन पहले तो फिल्मी गाने पर डांस करते हुए दिख रहे हैं इसके बाद वे अपने एक सहयोगी से बंदूक अपने हाथ में ले लेते हैं , साथ ही तीन पिस्टल भी उनके हाथ में दिखाई दे रही है। एक पिस्टल को बाद में मुंह में दबाकर भी वह डांस करते नजर आ रहे है । इस दौरान शराब पीते भी वह दिखाई दिए। डांस के दौरान वे उत्तराखंड के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं।

वीडियो में चैंपियन के साथ में तीन-चार और लोग भी हैं। चैंपियन इस प्रकार के वीडियो और आपत्तिजनक भाषा के लिए कई बार विवादों में रहे ।

इसी कारण भाजपा ने उन्हें उनके व्यवहार के लिए तीन माह के लिए सदस्यता से निलंबित किया है।बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट के अनुसार चैंपियन को नोटिस भेजा जायेगा । उनसे ही पूछा जायेगा कि इस आचरण के लिए क्यों न उन्हे पार्टी से निष्कासित कर दिया जाए।

LEAVE A REPLY