Home comes out to be a Wild Pig सोचा तेंदुआ , निकला सुअर

सोचा तेंदुआ , निकला सुअर

185
0

दिलबर बिष्ट

रुद्रप्रयाग : कहते हैं , यदि इंसान के मस्तिष्क में किसी चीज़ का नाम या दहशत बैठ जाए , तो वह रास्ते में चलती बिल्ली ही क्यूँ ना हो उसे भी बाघ , चीता या गुलदार ही समझता है।

बता दें , कि गढ़वाल में आजकल जहाँ देखो , वहाँ या तो गुलदार या भालू के हमले की खबर आती रहती है। इस माहौल के चलते हर बूढ़े से लेकर जवान बच्चे तक , मात्र इसका नाम सुनते ही दहशत साफ दिखाई देती है । दहशत में आने वाली बात है भी , जिसके चलते दहशत व दिमागी रट ने आज लोगों को हैरान कर दिया। हुवा यूँ कि , श्रीनगर डांग के एक कच्चे मकान के अंदर किसी ने अनजाने में सुअर की जगह बाघ या गुलदार के घर में जाने की बात कही , यह बात शहर से लेकर गाँव तक फैल गई , वहीं कुछ-एक मीडिया ने तो गुलदार के होने की पुष्टि किए बिना ही खबर प्रमुखता से प्रसारित कर दी , लेकिन हुवा वह जिसकी लोगों ने कल्पना भी नहीं की थी।

प्रशासन के लोगों को जैसे ही डांग के कच्चे मकान में गुलदार के घुसे होने की खबर मिली तो वे अपने स्तर से ताम – झाम लिए स्थल के लिए रवाना हुए । तभी लोगों का जमवाड़ा ऐसा लगा जैसे कोई चमत्कार हो गया हो , एक स्थानीय साहसी युवा ने साहस जुटा कर उस कच्चे मकान तक जाने की जहमत उठाई तो देखा , घर के अंदर सुअर नींद में खराटे मार रहा था , जिसे देख वही कहावत चरितार्थ हुई , खोदा पहाड़ निकली चुहिया।

LEAVE A REPLY