Home Uncategorized केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के नर कंकालों की खोज...

केदारनाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों के नर कंकालों की खोज के लिए 4 दिवसीय सघन खोजबीन अभियान कल से शुरू होगा

175
0

केदारनाथ आपदा में मारे गए लोगों के अवशेष ढूंढने का सबसे बड़ा अभियान

दिलबर सिंह बिष्ट

रुद्रप्रयाग।श्री केदारनाथ क्षेत्र में आयी 16-17जून 2013 को भीषण आपदा व जल-प्रलय में काफी जन-धन की हानि हुई थी।इस आपदा के दौरान काफी संख्या में लोग लापता भी हो गये थे।आपदा के उपरान्त विगत के वषों में भी आपदा में लापता लोगों के मृत शरीर व नर कंकालों की ढूंढ खोज हेतु टीमें गठित कर सर्च अभियान चलाया गया, तथा प्राप्त होने वाले नर कंकालों का विधिवत डीएनए सैम्पल लेने के उपरान्त सम्बन्धित धर्म के रीति-रिवाज के अनुसार उनका अन्तिम संस्कार किया गया।

इसी क्रम में इस वर्ष भी रिट पिटीशन संख्या (पी0आई0एल) 45/2019 के अनुपालन में व पुलिस मुख्यालय तथा परिक्षेत्रीय कार्यालय देहरादून की अपेक्षा के क्रम में जनपद रूद्रप्रयाग पुलिस द्वारा एसडीआरएफ उत्तराखण्ड व गढ़वाल परिक्षेत्र के अन्य जनपदों के पुलिस कार्मिकों के सहयोग से वर्ष 2013 की श्री केदारनाथ आपदा में लापता हुए लोगों के मृत शरीर, नर कंकालों की खोजबीन हेतु 4 दिवसीय सघन खोजबीन अभियान चलाया जा रहा है।
यह अभियान आज 16 सितम्बर की प्रातः काल से प्रारम्भ होगा।
खोजबीन किये जाने हेतु जनपद रूद्रप्रयाग के स्तर पर 10 टीमें गठित की गयी हैं, जिनके लिए अलग-अलग मार्ग निर्धारित किये गये हैं।
प्रत्येक टीम का नेतृत्व 1 उपनिरीक्षक द्वारा किया जायेगा तथा टीम में 02 आरक्षी जनपद पुलिस से तथा 2 आरक्षी एसडीआरएफ तथा 1 फार्मासिस्ट तैनात किये गये हैं। गठित की गयी टीमों में जनपद रूद्रप्रयाग सेे 3 उपनिरीक्षक, 8 आरक्षी, जनपद चमोली से 02 उपनिरीक्षक, 6 आरक्षी, जनपद पौड़ी गढ़वाल से 2 उपनिरीक्षक, 6 आरक्षी, एसडीआरएफ से 3 उपनिरीक्षक, 1 मुख्य आरक्षी व 19 आरक्षी तथा जनपद रूद्रप्रयाग से 10 फार्मासिस्ट अर्थात कुल 60 कार्मिक इस अभियान में नियुक्त रहेंगे।

प्रत्येक टीम को पर्याप्त मात्रा में रात्रि विश्राम/कैम्पिंग हेतु टैण्ट, स्लीपिंग बैग, मैट्रस, रसद सामग्री, आवश्यक सुरक्षा उपकरण, संचार हेतु वायरलेस सेट, फोटो-वीडियोग्राफी हेतु कैमरे उपलब्ध कराये गये हैं।
सभी मार्गों पर चलाये जाने वाले खोजबीन अभियान को सफल व सार्थक बनाये जाने हेतु गूगल मैप का उपयोग किया जायेगा। मैप रीडिंग हेतु प्रत्येक टीम के साथ एसडीआरएफ कार्मिक नियुक्त हैं।अन्य मार्गों से अपेक्षाकृत 3 कठिन मार्गों में जाने वाली टीम के सहयोग हेतु स्थानीय स्तर पर मार्गदर्शक (गाइड) व पोर्टरों की पर्याप्त व्यवस्था भी की गयी है।सर्च अभियान हेतु चयनित मार्गों में (ट्रैकों का विवरण)केदारनाथ से वासुकिताल,गौरीकुण्ड से केदारनाथ एवं वर्तमान में उपयोग में लाये जा रहे मार्ग के आस-पास का क्षेत्र, कालीमठ से चैमासी होते हए रामबाड़ा, रामबाड़ा का ऊपरी क्षेत्र,जंगलचट्टी का ऊपरी क्षेत्र, केदारनाथ बेस कैम्प का ऊपरी क्षेत्र, केदारनाथ मन्दिर के आसपास का क्षेत्र, गौरीकुण्ड से गोऊंमुखड़ा, केदारनाथ से चैराबाड़ी एवं आसपास का क्षेत्र, त्रियुगीनारायण से गरूड़चट्टी होते हुए केदारनाथ,गौरीकुण्ड से मुनकटिया का ऊपरी क्षेत्र होते हुए सोनप्रयाग।
टीम के सभी सदस्य आज सांयकाल सोनप्रयाग पहुंचेंगे तथा कल प्रातः काल 08ः00 बजे से उक्त अभियान की विधिवत शुरूआत की जायेगी।
इस अभियान का प्रभावी पर्यवेक्षण किये जाने हेतु स्वयं पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह सोनप्रयाग पहुंच रहे हैं तथा वहां से आज 16 सितम्बर की प्रातः काल सभी टीमों को भली-भाॅति ब्रीफ कर अर्थात आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान करने के उपरान्त स्वयं भी श्री केदारनाथ हेतु प्रस्थान करेंगे। केदारनाथ पहुंचकर वे स्वयं सभी टीमों के सम्पर्क में रहते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान करते रहेंगे।

LEAVE A REPLY