Home Uncategorized बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज ख़ान (निर्मला नागपाल) का निधन

बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज ख़ान (निर्मला नागपाल) का निधन

43
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

मुंबई : बॉलीवुड की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान ने 3 जुलाई तड़के सुबह दुनिया को अलविदा कह दिया । उनकी उम्र 71 वर्ष थी।गुरुवार रात को उन्हें दिल का दौरा पड़ा था। आज सुबह सुबह 1:52 उन्होंने अंतिम सांस ली। सरोज खान का असली नाम निर्मला नागपाल था। यह नाम उनको अपने पिता से मिला था। 13 साल की छोटी से उम्र में ही उनकी शादी हो गई थी। और वह भी अपने से 30 साल बड़े डांस मास्टर सोहनलाल से , सोहनलाल से निर्मला की तीन बच्चे हुए और कालांतर में निर्मला ने सोहनलाल से बिदाई ले ली । जिसके बाद निर्मला नागपाल ने 1975 में मुंबई के एक पठान कारोबारी रोशन खान ने शादी की और खान हो गई।

बॉलीवुड की संभवत: पहली महिला कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन हिन्दी सिनेमा के एक डांस युग का अंत है, क्योंकि सरोज खान ऐसी डांस गुरु थीं, जो संजय लीला भंसाली जैसे निर्देशक को भी सिर्फ डांस नहीं शॉट की बारीकी समझा देती थी। तीन राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाज़ी जा चुकी इस कोरियोग्राफर को माधुरी-श्रीदेवी सबने अपना गुरु माना। सरोज खान में एक अक्खड़पन था, एक भदेसपन था,जो उनके संघर्ष की वजह से आया था। उनकी जिंदगी से जुड़ा एक किस्सा मशहूर है। बचपन में जब वो बैकग्राउंड में डांस करती थीं, एक दिवाली पर उनके पास खाने को नहीं था। वो शशि कपूर के पास गईं और बोलीं-आज दिवाली है, मेरे घर में खाने को नहीं है और आज की शूटिंग का पैसा एक हफ्ते बाद मिलेगा। दिलदार शशि कपूर ने उन्हें 200 रुपए दे दिए और बोले-मेरे पास इतने ही हैं।

सरोज खान 40 साल में दो हजार से भी ज्यादा गानों को कोरियोग्राफ किया था। उन्होंने फिल्म देवदास के गाने ‘डोला रे डोला’, ‘श्रृंगारम’ के सारे गाने, ‘जब वी मेट’ के ‘ये इश्क हाये’ के लिए नैशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। फिल्म ‘गुरु’, ‘देवदास’, ‘खलनायक’, ‘हम दिल दे चुके सनम’, ‘बेटा’, ‘सैलाब’, ‘चालबाज’ और ‘तेजाब’ के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है।

उन्हें सांस लेने की तकलीफ के चलते 20 जून को मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, लेकिन डॉक्टर्स की तमाम कोशिशों के बावजूद उन्हें नहीं बचाया जा सका। सरोज को शुक्रवार सुबह मलाड के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

2019 में सरोज ने ‘कलंक’ और ‘मणिकर्णिकाः द क्वीन ऑफ झांसी’ में एक-एक गाने को कोरियॉग्राफ किया था। ‘कलंक’ में उन्होंने ‘तबाह हो गए’ गाने को कोरियोग्राफ किया था, जिसमें माधुरी दीक्षित ने बेहतरीन डांस कर सभी का दिल जीत लिया था।


माधुरी ने भी ट्वीट के जरिए अपनी गुरू और दोस्त को श्रद्धांजलि दी है। साथ ही लिखा है कि मैं बिखर गई हूं। माधुरी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मैं अपनी दोस्त और गुरु, सरोज खान के जाने से बिखर गई हूं। मेरे डांस में मुझे पूरे पोटेंशियल तक पहुंचाने में मदद करने के लिए मैं उनके काम की हमेशा आभारी रहूंगी। दुनिया ने एक अद्भुत प्रतिभाशाली व्यक्ति को खो दिया है। मैं आपको याद करूंगी। उनके परिवार के प्रति मेरी सच्ची संवेदना’।

LEAVE A REPLY