Home Uncategorized कुछ भी कर लो, ड्रैगन नहीं छोड़ेगा एक इंच भी जमीन, चीन...

कुछ भी कर लो, ड्रैगन नहीं छोड़ेगा एक इंच भी जमीन, चीन के सरकारी अख़बार का दावा

178
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

नई दिल्ली. एक तरफ बातचीत और दूसरी तरफ गीदड़भभकी , पूर्वी लद्दाख में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव खत्म करने पर भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बातचीत जारी है। बैठक चीन के मोल्डो में रखी गई है। इसमें भारत की ओर से 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीन की ओर से मेजर जनरल लियू लिन शामिल हुए। लियू साउथ झिंनझियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं। इससे पहले शुक्रवार शाम दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के अफसरों के बीच बातचीत हुई थी। लेकिन इस बीच चीन के सरकारी अख़बार की टिप्पणी भी पढ़ लीजिये , क्या कहता हैं भारत व अमेरिका के लिए , पढ़ लीजिये साफ़ सन्देश .

But China will not give up any inch of territory. Once India makes a strategic misjudgment and nibbles away at China’s territory, China will never condone it. China is bound to make strong countermeasures. We believe India knows very well that China will not be at a disadvantage in any China-India military operations along the border area.
https://www.globaltimes.cn/content/1190685

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि चीन अपने क्षेत्र की एक इंच भी जमीन को नहीं छोड़ेगा। हालांकि, हम अपने पड़ोसी भारत के साथ बेहतर रिश्ते बनाना चाहते चाहते हैं । अमेरिका पर कटाक्ष करते हुए ग्लोबल टाइम्स लिखता हैं भारत को अमेरिका द्वारा बेवकूफ नहीं बनना चाहिए।

ग्लोबल टाइम्स’ के शुक्रवार को प्रकाशित हुए संपादकीय में लिखा गया, ‘चीन भारत के लिए बुरा नहीं चाहता है। उसने आगे यह भी कहा हैं कि भारत को अपना दुश्मन बनाने का हमारे पास कोई कारण नहीं है।’

भारत और चीनी सैनिकों के बीच इस मई महीने के दौरान तीन झड़पे हो चुकी है। पहली झड़प 5 मई को पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील इलाके में हुई थी ,जब भारत-और चीन के करीब 200 सैनिक आमने-सामने हो गए।

दूसरी झड़प 9 मई, को उत्तरी सिक्किम के नाकू ला सेक्टर में हुई जहाँ भारत-चीन के 150 सैनिक आमने-सामने हो गए थे।

तीसरी और अंतिम झड़प 9 मई को लद्दाख इलाके में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर
पर हुई,उसी दिन चीन ने लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर अपने हेलिकॉप्टर भेजे थे। तब से लेकर भारत और चीन को बीच तनाव बरकार हैं।

LEAVE A REPLY