Home Uncategorized मैं जिलाधिकारी वन्दना सिंह चैहान बोल रही हूँ “हेलो” माया देवी बोल...

मैं जिलाधिकारी वन्दना सिंह चैहान बोल रही हूँ “हेलो” माया देवी बोल रही हैं ? जी में माया देवी बोल रही हूँ , कैसी हैं मांजी आप ?

238
0

सतेंद्र सिंह बिष्ट

रुद्रप्रयाग। रुद्रप्रयाग जिले की जिलाधिकारी बन्दना सिंह चौहान के काम करने का तरीका अपने आप में अलग हैं , इस वीडियो में आम देख सकते हैं कि जिलाधिकारी बिना लाग लपेट के सीधा फ़ोन घुमा रहे हैं रुद्रप्रयाग जिले की 62 वर्षीय माया देवी को , माया देवी के पास फोन पर कॉल आती हैं और वे उसे रिसीव करती हैं , माया देवी ने शायद ही सोचा होगा कि ऐसा दिन भी उनके लिए आएगा जब दूसरी तरफ से आवाज आती हैं में डीएम बोल रही हूँ, कैसे हो मांजी आप। इस पर पहले तो माया देवी को बिस्वास ही नहीं हुआ , लेकिन तुरंत अपने आप को बिस्वास दिलाते हुए उन्होंने जिलाधिकारी से बात की, और वाकई अहसास हुआ कि हमारी सुरक्षा किसी जिम्मेदार अफसर के कंधों पर है।

दरअसल इस प्रकार की फ़ोन कॉल केवल माया देवी को ही नहीं आ रही हैं बल्कि रुद्रप्रयाग जिले कई ऐसे बुजुर्गों को जिलाधिकारी वन्दना कॉल कर हाल चाल पूछ रही है। आज रुद्रप्रयाग कंट्रोल रूम से जिलाधिकारी ने संस्थागत क्वारन्टीन में चल रही जवाड़ी गाव की 62 वर्षीय बुजुर्ग माया देवी जो कि महाराष्ट्र से आई थी ,से दूरभाष पर संपर्क किया। इस दौरान दौरान जिलाधिकारी ने बुजुर्ग महिला से उनके गांव का नाम, स्वास्थ्य, खानपान, सैंपल टेस्ट के विषय में पूछा , जवाब में माया देवी ने पूरी तस्सली के साथ जिलाधिकारी के सवालों का जवाब दिया। माया ने यह भी कहा कि में पूरी तरह स्वस्थ हूँ।

एक ओर अधिकरी हैं कि जो जनता की सुरक्षा में कोई भी कोताही नहीं बरतना चाहते हैं , तो दूसरी तरफ कई लोग ऐसे भी हैं जो सरकारी गाइडलाइन का पालन नही कर रहे है। रुद्रप्रयाग जिले में कंट्रोल रूम से लगातार आइसोलेशन वार्ड, संस्थागत क्वारन्टीन, कोरोनो पॉजिटिव व डिस्चार्ज हो रहे व्यक्तियों से किया जा रहा संपर्क किया जा रहा है और जिलाधिकारी वंदना कॉल कर रही है।

माया देवी से बात करने के बाद जिलाधिकारी ने उदय सिंह (४८) वर्षीय जो कि 17 जून को दिल्ली से आये थे, और संस्थागत क्वारन्टीन में रह रहे है ,तथा जगत लाल जिन्हें 17 जून को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था, से भी जिलाधिकारी ने हाल चाल पूछा। जगत लाल ने बताया कि उनका स्वास्थ्य भी ठीक हैं व स्वास्थ्य विभाग द्वारा उनको पूर्ण सहयोग मिल रहा हैं।

जिलाधिकारी ने अनलॉक एक पर भी जनता के सामने अपना पक्ष रखा कि सरकार किस प्रकार से अनलॉक एक में किन किन क्षेत्रों , में छूट दी हैं , मसलन इलाके में आ रहे मजदूरों का उन्होंने जिक्र किया। उन्होंने ग्राम प्रधानों द्वारा उठाये गए प्रश्नो का जवाब दिया , उन्होंने कहा कि जो भी श्रमिक सरकारी या संस्थागत काम करने के लिए आ रहे हैं उन्हें चौदह दिन के कोरेन्टीन होने की जरुरत नहीं हैं , हाँ जो भी बाहरी श्रमिक बाहर से आ रहे हैं ,वे गांव की निगरानी समिति के लोगों को जरूर सम्पर्क करेंगे , श्रमिक गांव में इधर उधर नहीं जा पाएंगे , यदि श्रमिक इसका उल्लंघन करता पाया गया तो उसकी सूचना पुलिस को दी जा सकती हैं ।

LEAVE A REPLY