Home Uncategorized कहीं बारिश बनी मुसीबत, कहीं सड़क बंद तो कहीं गिरे पेड़, सगवाड़ा...

कहीं बारिश बनी मुसीबत, कहीं सड़क बंद तो कहीं गिरे पेड़, सगवाड़ा में मलबे में दबी दो गौशाला दर्जनो मवेशी दबे

377
0

सुभाष पिमोली
थराली,कर्णप्रयाग।देर रात हुई मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्त ब्यस्त वही कर्णप्रयाग- ग्वालदम मोटर मार्ग पर कई जगह मलबा आने से मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं. देवाल तिराहे, नाशिर बाजार ,सिमलसैंण, पेट्रोल पंप, बैनोली, थाला, लोल्टी, के समीप मोटर मार्ग मलवा आने से बंद है .तो वही थराली मुख्य बाजार नासिर बाजार के समीप पेड़ गिरने से निर्माणदायी संस्था बीआरओ का डंपर क्षतिग्रस्त हो गया है. गनीमत रही कि कोई हताहत नहीं हुआ।
इन दिनों कर्णप्रयाग – ग्वालदम मोटर मार्ग का चौड़ीकरण का कार्य किया जा रहा है. जिसके चलते सड़क कटिंग से जगह जगह चट्टानों से लगाता पत्थर गिर रहे हैं जिसके चलते मोटर मार्ग अवरुद्ध हो रहे हैं. बीआरओ के द्वारा सड़क का मलबा हटाने का कार्य किया जा रहा है।


बीआरओ के कनिष्ठ अभियंता अमित तोमर का कहना है कि देर रात हुई बारिश से मोटर मार्ग अवरुद्ध हो गये थे सुबह 8 बजे मोटर मार्ग सुचारू कर दिया गया है। पिंडर पार क्षेत्र के कुनी पार्था, सगवाड़ा व सोल पट्टी में भी भारी बारिश के कारण गाड़ गधेरे उफान पर थे जिस कारण क्षेत्र मैं कई हेक्टेयर कृषि भूमि तबाह हो गई है वही सगवाड़ा में दो गौशाला मलबे की भेंट चढ़ गए हैं जिसमें धन सिंह पुत्र रघुवीर सिंह के दो बैल, एक भैंस, एक गाय, एक गाय का बछड़ा व 20 बकरियां मलबे में दब गई तथा पुष्पा देवी पत्नी दुर्लभ सिंह की एक भैंस भी मलबे मैं दब गई क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र सिंह ने बताया गुजरात व कोलकाता से रोजगार खो चुके युवा विनोद सिंह व शंकर ने अपनी आजीविका चलाने के लिए 20 बकरियां खरीदी थी किंतु कोरोना कॉल के बाद कुदरत के कहर ने इन युवाओं पर संकट खड़ा कर दिया है। वहीं पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हयात सिंह बिष्ट पूर्व क्षेत्र प्रमुख सुशील रावत ने सरकार से मांग की है सब कुछ गवा चुके इन परिवारों को आजीविका की मुकम्मल व्यवस्था की जाए ताकि वे पुनः अपना रोजगार कर सके।

LEAVE A REPLY