Home Uncategorized उत्तराखंड का एक और सपूत मातृभूमि के लिए कुपवाड़ा में शहीद

उत्तराखंड का एक और सपूत मातृभूमि के लिए कुपवाड़ा में शहीद

191
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

नैनीताल : जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में देर रात देवभूमि का एक लाल शहीद हो गया। हल्द्वानी के गोरापड़ाव निवासी युमना प्रसाद पनेरू की बृहस्पतिवार रात कुपवाड़ा में शहीद होने की सूचना सेना से मिली है। जानकारी के मुताबिक बर्फ से ढकी चोटियों पर अपनी टीम के साथियों बचाते समय उनका पैर फिसला, वह खाई में गिर गए और शहीद हो गए।

यमुना प्रसाद पनेरू 2001 में छह कुमाऊं रेजिमेंट में भर्ती हुए। उनका बचपन ग्रामसभा पदमपुर मीडार के तोक गालपाधूरा में बीता। आठवीं तक की पढ़ाई भी उच्च प्राथमिक विद्यालय मीडार से करने के बाद 9वीं और दसवीं की पढ़ाई एसएमएसडी स्कूल कनखल हरिद्वार से हुई। इंटरमीडिएट की परीक्षा हरिराम इंटर कॉलेज से पास करने के बाद डीएवी देहरादून में बीएससी में दाखिला लिया। बीएससी प्रथम वर्ष करने के दौरान का चयन भारतीय सेना के लिए हो गया।
2014 में वे भारतीय सेना की ओर से भूटान भी गए, और वहां से आने के बाद सुबेदार पद पर नियुक्त हुए।

सुबेदार यमुना पनेरू ने 20 साल तक सेना में अदम्य साहस के साथ सेवा देते हुए 37 वर्ष की आयु में देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। पनेरू अपने पीछे बेटे यश (7 साल ) और 5 साल की बेटी साक्षी, पत्नी, मां महेश्वरी देवी, बड़े भाई चंद्र प्रकाश पनेरू, छोटे भाई भुवन और भाभी सहित भतीजे -भतीजी आदि को छोड़ गए।

शहीद का परिवार वर्तमान में हल्द्वानी के गोरापड़ाव में रहता है। इधर उनके पैतृक गांव में बृहस्पतिवार की शाम यमुना प्रसाद पनेरू के शहीद होने की खबर लगते ही ग्रामीणों में शोक की लहर है।

LEAVE A REPLY