Home Uncategorized विधायक पर लगा शारारिक संबंध बनाने का आरोप, पत्नी बनी ढाल ,ब्लैकमेलिंग...

विधायक पर लगा शारारिक संबंध बनाने का आरोप, पत्नी बनी ढाल ,ब्लैकमेलिंग का लगाया आरोप,मुक़दमा दर्ज

217
0

द्वाराहाट के विधायक महेश सिंह नेगी की पत्नी ने एक महिला पर लगाया पति को ब्लैकमेल करने का आरोप , दूसरी तरफ आरोपी ने जारी किया वीडियो

राकेश चंद्र डंडरियाल

देहरादून : द्वाराहाट से बीजेपी विधायक महेश सिंह नेगी की पत्नी रीता नेगी ने शुक्रवार को देहरादून निवासी एक महिला और उसके परिवार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। नेहरू कॉलोनी थाने दर्ज मुक़दमे में विधायक की पत्नी ने आरोप लगाया हैं कि एक महिला तथा उसके परिवार वाले मिलकर उनके पति महेश सिंह नेगी को ब्लैकमेल कर रहे है। महिला ने विधायक से शारारिक संबंध होने की बात कही हैं और विधायक की पत्नी से पांच करोड़ रुपये मांगे हैं। डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि महिला, सेना में तैनात उसके पति, मां और भाभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 386 ओर 389 में मुकदमा दर्ज कर दिया गया है।

आरोपी महिला का कहना है कि महेश नेगी ने उसके साथ दबाव डालकर दो साल से संबंध बनाये जिसके बाद वह एक बच्चे की माँ बन गई हैं। जिला पंचायत अध्यक्ष अल्मोड़ा के नाम लिखे पत्र में आरोपी महिला ने लिखा हैं कि विधायक की तरफ से उसे लगातार धमकियाँ मिल रही हैं। में आपसे सहायता लेना चाहती हूँ , आज मेरे घर पर सुबह पुलिस वाले आए और कहा कि तुम्हें कोरोना टेस्ट के लिए ले जाना हैं , उसके बाद वे मुझे नेहरूनगर पुलिस स्टेशन ले गए। पुलिस स्टेशन पहुंचकर मुझे सच्चाई बताई गई , मुझे महेश व उसकी पत्नी से खतरा हैं। मुझे एक महिला होने के कारण एक वकील दिलाने की कृपा करे। आरोपी महिला ने एक वीडियो जारी करके विधायक से सबंध और उनसे बेटी होने का दावा किया है।

राजसत्ता न्यूज़ के पास वह पत्र सुरक्षित हैं, यह पत्र आरोपी महिला ने सुबह लिखा होगा , क्योँकि मुक़दमा शुक्रवार को दोपहर की बाद दर्ज किया गया। उधर जिला पंचायत अध्यक्ष उमा देवी ने हमारे संबाददाता संजय कुमार अग्रवाल को बताया कि पीड़िता ने न्याय की गुहार लगाई हैं , लिहाजा में इसे महिला आयोग को भेज रही हूँ , मामला निर्भया प्रकोष्ठ को भी भेजा जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि हम महिला की पूरी सहायता करेंगे , उन्होंने महिला द्वारा डीएनए जांच की भी मांग को भी उचित माना है। खबर लिखे जाने तक राजसत्ता न्यूज़ ने आरोपी महिला से संपर्क करने की कोशिस की लेकिन उन्होंने उठाया नहीं , दूसरी तरफ विधायक महेश नेगी का भी फ़ोन बंद हैं।

मामले में देहरादून पुलिस का रोल संदेह के घेरे में हैं , यदि विधायक की पत्नी ने आरोपी महिला के खिलाफ मुक़दमा दर्ज करवाया तो पुलिस ने उसे गिरफ्तार क्योँ नहीं किया? दूसरी तरफ आरोपी महिला के बयान को पुलिस ने क्योँ नहीं दर्ज किया? उसे कोरोना के बहाना क्योँ पुलिस स्टेशन ले जाया गया? उसके आरोप पर विधायक के खिलाफ मुक़दमा क्यो नहीं दर्ज किया ये कुछ सवाल हैं , जिनका जवाब पुलिस को देने होंगे।

LEAVE A REPLY