Home Uncategorized ट्रैकर्स की कहानी उनकी जुबानी। रुद्रप्रयाग पुलिस की कामयाबी

ट्रैकर्स की कहानी उनकी जुबानी। रुद्रप्रयाग पुलिस की कामयाबी

211
0

सतेंद्र सिंह बिष्ट

रुद्रप्रयाग। दिनांक 12 जुलाई 2020 को श्री केदारनाथ यात्रा पर पहुंचे 4 ट्रैकरों द्वारा अपने एक साथी को 13 जुलाई 2020 की प्रातः सोनप्रयाग वापस भेजते हुए यह बताया गया कि वे वासुकिताल-त्रियुगीनारायण होते हुए सोनप्रयाग पहुंचेंगे, तुम हमारा इंतजार वहीं पर करना। दिनांक 13 जुलाई 2020 की रात्रि करीब 10:00 बजे लगभग थाना सोनप्रयाग में आए एक युवक शशांक द्वारा बताया गया कि उसके 4 साथी जिनके द्वारा बताया गया था कि, वे आज शाम तक सोनप्रयाग आएंगे परंतु अब तक नहीं पहुंचे हैं। इस संबंध में पूरा विवरण सुनने के बाद उस व्यक्ति से उन चारों व्यक्तियों का नाम इत्यादि पूछा गया, परंतु वह इस संबंध में संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया।


इन चार लोगों के केदारनाथ से वासुकिताल-त्रियुगीनारायण ट्रैक पर जाने तथा समय पर वापस न आने संबंधी सूचना पर प्रभारी निरीक्षक, कोतवाली सोनप्रयाग द्वारा पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग को अवगत कराया गया।
पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग द्वारा इस संबंध में पुलिस मुख्यालय, उत्तराखंड शासन में वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करते हुए अधीनस्थ पुलिस बल को रेस्क्यू किए जाने हेतु निर्देशित किया गया।
जनपद पुलिस एवं एसडीआरएफ की एक संयुक्त टीम को दिनांक 14 जुलाई 2020 की प्रात: काल श्री केदारनाथ से वासुकीताल त्रियुगीनारायण ट्रैक पर रवाना किया गया। परंतु भेजी गई टीम को अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाई।
इन लापता ट्रैकरों की खोज हेतु जनपद रुद्रप्रयाग पुलिस द्वारा दिनांक 15 जुलाई 2020 को जनपद पुलिस एवं एसडीआरएफ, जिला प्रशासन से डीडीआरएफ की संयुक्त रूप से तीन टीमें बनाई गई।
एक टीम जो कि केदारनाथ से वासुकिताल होते हुए त्रियुगीनारायण ट्रैक पर गयी,
दूसरी टीम गौरीकुंड से आगे गौरी खर्क के जंगलों के रास्ते तथा तीसरी टीम द्वारा त्रियुगीनारायण/तोषी के जंगलों से होकर जाने वाले रास्ते से प्रस्थान किया गया। तथा इसी दिन, दिन के समय उत्तराखंड शासन द्वारा भेजे गए हेलीकॉप्टर द्वारा भी जंगलों के ऊपर से संभावित स्थलों पर सर्च किया गया।
स्थानीय जिला प्रशासन की टीम द्वारा ड्रोन से भी संभावित स्थलों पर तलाश की गई। परंतु कुछ पता न चलने पर भेजी गई सभी टीमें जहां तक पहुंची उनके द्वारा वहीं पर जंगलों में कैंप किया गया।
दिनांक 16 जुलाई 2020 की प्रात: स्थानीय लोगों की टीमें तैयार कर संभावित स्थलों हेतु रवाना की गयी। इसके अतिरिक्त सभी 4 लोगों के पारिवारिक सदस्यों से वार्ता कर तथा उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराया गया। रुद्रप्रयाग पुलिस एसडीआरएफ, स्थानीय जिला प्रशासन तथा स्थानीय व्यक्तियों द्वारा लापता व्यक्तियों की निरंतर तलाश करते हुए एक व्यक्ति के मोबाइल नंबर पर संपर्क स्थापित किया गया, परन्तु फंसे हुए लोगों को उक्त स्थल की भौगोलिक जानकारी न होने तथा स्पेसिफिक लैंडमार्क न बता पाने के कारण इनको ढूंढने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सर्च हेतु गई सभी 05 टीमों के अथक प्रयास एवं कड़ी मेहनत के उपरांत देर सांय चारों लोगों को सकुशल बरामद किया गया। इन लोगों के भूखे प्यासे होने, व अत्यधिक थक जाने तथा चलने फिरने में असमर्थ रहने के कारण इनको तोषी गांव में ही रात्रि विश्राम कराया गया।
इस संपूर्ण रेस्क्यू अभियान की महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, उत्तराखंड, पुलिस महानिरीक्षक, मुख्यालय, पुलिस महानिरीक्षक, गढ़वाल परिक्षेत्र उत्तराखंड, पुलिस महानिरीक्षक, एसडीआरएफ उत्तराखंड द्वारा स्वयं मॉनिटरिंग करते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। जिस पर पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग श्री नवनीत सिंह द्वारा रेस्क्यू हेतु लगाए गए अधीनस्थ पुलिस बल का मनोबल बढ़ाते हुए पल-पल की जानकारी, उच्चाधिकारियों, पुलिस मुख्यालय, परिक्षेत्रीय कार्यालय, माननीय मुख्यमंत्री कार्यालय, उत्तराखंड शासन, को उपलब्ध कराई गई।


इन सभी ट्रैकरों को आज प्रातः काल सोनप्रयाग लाया गया तथा पूछताछ करने पर बताया गया कि, इनके द्वारा दिनांक 13 जुलाई 2020 की प्रातः काल श्री केदारनाथ से ट्रैकिंग हेतु वासुकिताल-त्रियुगीनारायण जाने वाले मार्ग को चुना गया। वासुकिताल पहुंचने के उपरांत नीचे की ओर त्रियुगीनारायण की तरफ जाने वाले रास्ते पर उन्होंने चलना शुरू किया सही रास्ते की जानकारी न होने के कारण वे जंगल में भटक गए, इनके द्वारा इस अवधि में जंगल में बनी गुफाओं में रात्रि विश्राम किया गया तथा नदी किनारे का सहारा लेते हुए आगे बढ़ते गए। किसी तरह संपर्क होने पर इनको ज्ञात हुआ कि इनकी ढूंढ खोज की जा रही है, इनके द्वारा राहत की सांस ली गई तथा कल दिनांक 16 जुलाई 2020 की सांयकाल इनका संपर्क रेस्क्यू टीम से हो पाया, तत्पश्चात इनके द्वारा चैन की सांस ली गई।

सकुशल बरामद ट्रेकर्स
1 – जितेन्द्र भण्डारी उर्फ हर्षू पुत्र स्व0 श्री गजेसिंह भण्डारी, निवासी ग्राम व पो0 तूनावाला, थाना रायपुर जिला-देहरादून।
2- हिमान्शु गुरुंग पुत्र श्री भद्र बहादुर, निवासी लोवर नेहरु ग्राम, थाना रायपुर, जिला देहरादन।
3 – जगदीश बिष्ट उर्फ जग्गू पुत्र श्री गंगासिंह बिष्ट, निवासी रामपुर, जिला – नैनीताल।
4 – मोहित भट्ट पुत्र श्री कृष्णा भट्ट, निवासी रामपुर, जिला- नैनीताल।

इन सभी लोगों को इनके गंतव्य हेतु रवाना कर दिया गया है। पुलिस-प्रशासन द्वारा किए गए इस सकुशल रेस्क्यू अभियान की इन रेस्क्यू किए व्यक्तियों, इनके परिवारजनों व स्थानीय लोगों द्वारा भूरि-भूरि प्रशंसा की गई है।

LEAVE A REPLY