Home Uncategorized मुख्यमंत्री ने किया राजकीय महाविद्यालय खैरासैंण का भूमि पूजन एवं शिलान्यास

मुख्यमंत्री ने किया राजकीय महाविद्यालय खैरासैंण का भूमि पूजन एवं शिलान्यास

45
0

राजसत्ता न्यूज़ ब्यूरो

पौड़ी/२० जुलाई ।मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बतौर मुख्य अतिथि के रूप में आज खैरासैंण (सतपुली) राजकीय महाविद्यालय खैरासैंण का भूमि पूजन एवं शिलान्यास किया। इस मौके पर उच्च शिक्षा, सहकारिता, दुग्ध विकास, प्रोटोकाॅल (स्वतंत्र प्रभार) राज्यमंत्री डाॅ. धन सिंह रावत ने भी शिरकत की। शिलान्यास कार्यक्रम के तहत उन्होने 727.06 लाख की विकास योजनाओं की सौगत दी गई। राजकीय महाविद्यालय खैरासैंण (सतपुली) जनपद पौड़ी गढ़वाल के भवन निर्माण कार्य हेतु 306.40 लाख, पर्यटन विभाग की 13 डिस्ट्रिक्ट 13 डेस्टिनेशन योजना के अन्तर्गत कम्युनिटी टूरिज्म को प्रोत्साहन देने हेतु खैरासैंण (सतपुली) में पर्यटक परिसर निर्माण कार्य हेतु 184.08 लाख तथा राज्य योजना के अन्तर्गत जनपद पौड़ी गढ़वाल में विधान सभा क्षेत्र चौबट्टाखाल के विकासखण्ड जयहरीखाल में खैरासैंण डौर-नागधार-बयाली मोटर मार्ग के किलोमीटर 2 से 24 मीटर स्पान 1.5 लेन क्लास ए लोडिंग स्टील गर्डर सेतु का निर्माण (द्वितीय निर्माण) लागत 173.43 लाख, खैरासैंण से डोर नगधार बायाली तक मोटर मार्ग का डामरीकरण 63.39 लाख का शिलान्यास किया गया।


मुख्यमंत्री रावत ने गावंवासियों का धन्यवाद देते हुए कहा कि जिन्होंने प्राइमरी स्कूल, इण्टर कालेज, जवाहर नवोदय विद्यालय एवं राजकीय महाविद्यालय के लिए अपनी कीमती भूमि को दान किया किया है उनका धन्यवाद। उन्होंने कहा कि 14 वर्षों से इस महाविद्यालय के लिए भूमि देखी जा रही थी और खैरासैंण गांव के लोगों द्वारा अपनी भूमि दान कर, शिक्षा के प्रति जागरूकता का परिचय दिया है।
उन्होने कहा कि राज्य सरकार गांवों के विकास के लिए कई तरह की योजनाएं चला रही है। हाल ही में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना लागू की गई है, जिसके तहत 150 तरह के काम कवर्ड है तथा 25 प्रतिशत की सब्सिडी है। कहा कि राज्य सरकार अपने किसान भाइयों को 1 लाख का ऋण पहले वर्ष में 2 प्रतिशत ब्याज पर दिया, फिर जब किसानों द्वारा अच्छा काम किया गया तो ब्याज को जीरो प्रतिशत किया गया। वहीं महिला समूहों को 5 लाख तक का ऋण बिना ब्याज के दिया। कहा कि अभी-अभी किसानों के लिए 3 लाख का ऋण बिना ब्याज के शुरू किया है, जिससे वे अपना स्वरोजगार स्थापित कर सकते है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत जल्दी एक बहुत बड़ी योजना ‘‘मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना‘‘ लाई जा रही है, जिसके तहत बिजली पैदा की जायेगी तथा उसे राज्य सरकार खरीदेगी। कहा कि 10 हजार लोगों को इस योजना के तहत स्वीकृति दे रहे हैं, यानि 10 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा और उसकी 15 हजार मासिक इनकम होगी। योजना के तहत 25 प्रतिशत की सब्सिडी दी जायेगी। उन्होंने कहा कि 25-25 किलोवाट के छोटे-छोटे प्रोजेक्ट कोई भी लगा सकता है, जिसमें कोई तकनीकी योग्यता की आवश्यकता नहीं है। जहां सब स्टेशन लगा रहे हैं, उसके 100 मीटर के दायरे में आपकी जमीन होनी चाहिए। कहा कि बिजली खरीदने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होगी, जिसे सरकार 4.50 रूपये यूनिट में खरीदेगी।
चीड़ का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि चीड़ की सूखी पत्तियों से भी बिजली बनाने का काम शुरू किया गया, जिसके तहत 7.50 रूपये यूनिट राज्य सरकार खरीदती है। कहा कि ‘‘मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना‘‘ बहुत जल्दी लागू कर दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY